देपालपुर। नर्मदा हर घर नल जल योजना 2018 में शुरू की गई थी, जिसको 2022 में पूर्ण होना थी मगर नहीं हुई। योजना के कार्य के दौरान चार ठेकेदार बदल गए जिससे कार्य की गति प्रभावित हुई। इस योजना में जितने भी ठेकेदार आए, सभी ने थोड़ा-थोड़ा काम कर बीच में ही छोड़ कर चले गए। किसी भी ठेकेदार ने काम पूरा नहीं किया। रोड के बीच में खोदाई कर पाइप लाइन डाली गई। इससे सड़क पर गड्ढे हो गए जिससे वाहन चालक और राहगीर परेशान हो रहे हैं। वर्षाकाल में परेशानी और बढ़ जाती है। रोड पर पानी भर जाने से पता नहीं चलता कि कहां गड्ढे हैं जिस कारण वाहन चालक गिरते हैं। वार्ड दो में सेमदा रोड से लगाकर शनि मंदिर तक की रोड तो पहले से गायब थी। इस योजना के चलते और खोद दिया गया जिस कारण वहां से गुजरने वाले काफी दि-तों का सामना कर रहे हैं। वार्ड के विकास जाधव बताते हैं कि गत दिनों हल्की सी वर्षा हुई जिससे रोड पर फिसलन केकारण लोग गिरते रहे। यह रोड मुख्यमंत्री अधोसंरचना के तहत स्वीकृत है। इस रोड का भूमिपूजन भी हो चुका है। इसके बाद भी निर्माण कार्य प्रारंभ नहीं हुआ।

गति अवरोधक बनाने की मांग

अजनोद। सांवेर-देपालपुर रोड पर गति अवरोधक नहीं बनाने के कारण हादसे की आशंका बनी रहती है। रोड के पास पानी निकासी की भी व्यवस्था नहीं की गई। ग्राम में किशोर राठौर, राहुल सेठ, विवेक पटेल, मलखान पटेल, संजय पटेल आदि ने बताया कि गति अवरोधक नहीं होने के कारण वाहन तेजी से निकलते हैं। रोड के पास निजी और शासकीय स्कूल हैं। बधाों को वाहनों से दुर्घटना का भय बना रहता है। रोड बनने की वजह से कई घर नीचे हो गए हैं। वर्षा के दिनों में बारिश का पानी घरों में घुसेगा। कई बार इस संबंध में ठेकेदार को अवगत कराया गया है, लेकिन ध्यान नहीं दे रहा। ग्रामीणों ने जल्द गति अवरोधक और पानी निकासी के लिए नाली बनाने की मांग की।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close