-तीन जमीन के कागजात सोैंपे, शेष 12को दी 15 दिन की चेतावनी

महू। रक्षा संपदा विभाग द्वारा खेती के लिए दी गई जमीन को अब वापस लेने की कार्रवाई तेज कर दी गई है। पंद्रह दिन पूर्व दिए गए नोटिस के बाद मालिकों ने तीन जमीन वापस लौटा जिसके कागजात विभाग को दे दिए जबकि शेष बारह को अंतिम चेतावनी देते हुए पंद्रह दिन का समय दिया गया।

रक्षा संपदा विभाग लंबे समय से अपनी जमीन को वापस लेने व अतिक्रमण मुक्त कराने का प्रयास कर रहा है। जिसमें बंगले, बगीचे के लिए खेती के लिए दी गई काफी जमीन है। चूंकि बंगलों, बगीचों में तो कॉलोनिया काट कर बेच दी गई जिसमें मॉल तक बना दिए गए है। चर्चा है कि बंगला नंबर 61 को चार करोड़ रुपये में बेच दिया। जबकि यह रक्षा संपदा विभाग की संपत्ति है। लेकिन न्यायालय से स्टे आर्डर ले आने के कारण विभाग कार्रवाई नहीं कर पाता। जबकि जिसे लीज पर यह जमीन दी गई वह इसका लाभ उठाकर या तो प्लाट बेच रहे हैं या फिर आलीशान निर्माण कर रहे हैं। जिसके कई उदाहरण रक्षा संपदा विभाग के बंगलों व बगीचों में देखे जा सकते हैं।

जानकारी के अनुसार रक्षा संपदा विभाग ने अब वर्षों पूर्व कृषि के लिए दी गई अपनी जमीन को वापस लेने की कार्रवाई शुरू कर दी। जिसके तहत पंद्रह दिन पूर्व सिमरोल रोड़, पिटरोड की कृषि की जमीन खाली कर विभाग को वापस देने का नोटिस पंद्रह लोगों को दिए गए थे, जिसकी अंतिम तारीख पंद्रह सितबंर थी। अंतिम दिन अनिल पुत्र पूरणलाल ने स्वयं के पास तीन स्थानों

की रक्षा संपदा विभाग की जमीन जिनका सर्वे नंबर 630, 644 व 280 है, वापस दे दी है। यह जमीन बी फोर है, जिसका क्षेत्रफल 6.40 एकड व 1.6 एकड़ है। जबकि शेष बारह ने अभी तक जमीन वापस देने के लिए कोई पत्र नहीं दिया। इन सभी को विभाग द्वारा पंद्रह दिन की चेतावनी दी गई। इसके बाद इन जमीनों को विभाग अपने कब्जे में ले लेगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local