रतलाम (नईदुनिया प्रतिनिधि)। रविवार को रणजी ट्राफी मुकाबले में पहली बार मप्र की टीम ने फाइनल मैच जाती और ट्राफी अपने नाम की। इससे रतलाम में खिलाड़ियों व आमजन में दोहरी खुशी देखने को मिली। वजह यह कि टीम में शामिल रहे राकेश ठाकुर ने क्रिकेट का प्रारंभिक सफर रतलाम से ही शुरू किया था। रणजी ट्राफी के प्रारंभिक दो मैच राकेश ने खेले थे और वे 16 सदस्यीय टीम का हिस्सा रहे।

टीम में विकेट कीपर की भूमिका में रहे राकेश ठाकुर ने वर्ष 2003-04 में गुजराती स्कूल में पढ़ाई के दौरान अंडर 16 में स्टेट व नेशनल स्पर्धाओं में भाग लिया। आशुतोष क्रिकेट क्लब में पोलोग्राउंड में कोच राजेश हैरिस बाबा, निलेश राजोरिया से क्रिकेट के गुर सीखे। क्लब के संयोजक अनुज शर्मा ने बताया कि राकेश ठाकुर के बड़े भाई तिलेश्वर ठाकुर भी क्रिकेट के अच्छे खिलाड़ी है। राकेश का जन्म रतलाम में ही हुआ और पिता पटवारी थे। पिता के देहांत व भाई की पुलिस विभाग में नौकरी लगने के बाद वर्ष 2015 में वे देवास शिफ्ट हो गए। रणजी टीम में शामिल होने व पहली बार टीम की जीत पर क्लब के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा, शैलेंद्रसिंह कुशवाह, अनंता ब्रह्मे, सत्यनारायण पटेरिया आदि ने बधाई दी।

राष्ट्र सेवा का माध्यम है अग्निपथ

रतलाम। प्रत्येक नागरिक में राष्ट्र के प्रति समर्पित होने का भाव होना चाहिए। सेना की अग्निपथ योजना के माध्यम से अग्निवीर बनकर हम सच्ची राष्ट्र सेवा कर सकते हैं। यह बात अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद के अध्यक्ष वीरेंद्र त्रिपाठी ने रविवार को ब्राह्मण वास स्थित श्री महर्षि श्रृंग विद्यापीठ में कही। त्रिपाठी ने सेना के अग्निपथ योजना की जानकारी समाज के युवाओं को प्रदान की। उन्होंने कहा कि अग्निवीर बनकर हम हर क्षेत्र में कार्य कर सकेंगे। एक दशक बाद हर क्षेत्र में अग्निवीर नजर आएंगे। इस अवसर पर पूर्व सूबेदार सुरेंद्रसिंह वाघेला ने अग्निपथ योजना के अंतर्गत परीक्षा उत्तीर्ण करने के सूत्र विद्यार्थियों को बताए। संचालन एडवोकेट सतीश त्रिपाठी ने किया। आभार न्यासी अनिल पांडेय ने माना।

0000

78 टन से अधिक कचरा जुलवानिया पहुंचाया

रतलाम। नगर निगम के कचरा संग्रहण वाहनों के माध्यम से घर-घर से पृथक-पृथक एकत्रित किए जा रहे गीले-सूखे कचरे, सड़कों व नाले-नालियों की सफाई के दौरान निकलने वाले कचरे का प्रतिदिन वजन किया जाकर जुलवानिया ट्रेंचिंग ग्राउंड पर पहुंचाया जा रहा है। इसके तहत रविवार को 122 ट्रीप लगाकर 78 टन से अधिक कचरा जुलवानिया ट्रेंचिंग ग्राउंड पहुंचाया गया। मैजिक सूखा कचरा 36735 किलो, मैजिक गीला कचरा 7055 किलो, डंपर से 32645 किलो, ट्रैक्टर से 1610 किलो कुल 78045 किलो कचरा जुलवानिया ट्रेंचिंग ग्राउंड पहुंचाया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close