मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। व्यापारी की आंखों में मिर्च झोंककर लूट करने वाले तीन बदमाशों में से दो को पुलिस ने दबोच लिया। इस लूट की घटना में हैरान करने वाली बात यह है कि अपराध का मास्टरमाइंड 16 साल का नाबालिग है। जिसने व्यापारी की रैकी की, व्यापारी का आंखों में मिर्च भी खुद झोंकी और पीछा करने वाले लोगों पर दो बार फायरिंग भी की। पुलिस अब तीसरे बदमाश की तलाश में जुटी है। इस घटना के बाद एसपी आशुतोष बागरी ने मंडी गेट पर बंद पड़ी पुलिस चौकी को फिर शुरू करने के निर्देश कोतवाली टीआई योगेंद्र सिंह जादौन को दिए हैं।

गौरतलब है कि सोमवार 16 मई की दोपहर 2 बजे कृषि उपज मंडी गेट, पुलिस चौकी के पास गल्ला व्यापारी कालीचरण पुत्र द्वारिका प्रसाद अग्रवाल की दुकान दो युवक आए, जिन्होंने अरहर व चना दाल का भाव पूछा, इसके बाद एक युवक ने व्यापारी के मुंह पर लाल मिर्च पाउडर फेंक दिया और पेटी में रखे 20 हजार रुपये समेटकर भाग गए थे। बदमाशों का पीछा व्यापारी के छोटे भाई व कुछ लोगों ने किया तो बदमाशों ने उन पर दो बार फायर कर दिया। इसके बाद कृषि मंडी के अंदर बाइक लेकर खड़े तीसरे साथी की बाइक पर बैठकर लूट करने वाले दोनों आरोपित भाग गए। सीसीटीवी फुटेज व मोबाइल लोकेशन के आधार पर पुलिस ने मुड़ियाखेरा में बालाजी पेट्रोल पंप के सामने रहने वाले 25 साल के हरिओम शर्मा और फिर मुरैना में पानी की टंकी के पास रह रहे मिरघान गांव निवासी 16 साल के नाबालिग को पकड़ा। पूछताछ में दोनों ने व्यापारी को लूटने की बात कुबुल कर ली और तीसरे साथी की पहचान शिकारपुर निवासी दीपक यादव के तौर पर बताई। पुलिस के अनुसार दीपक यादव की तलाश की जा रही है। पुलिस जांच में सामने आया है कि 16 साल के नाबालिग ने क्राइम पेट्रोल जैसे सीरियल व मोबाइल पर यू-टयृूब पर आसानी से होने वाली लूटपाट की घटनाएं व तरीका देखा। इसके बाद इसी नाबालिग ने गल्ला मण्डी गेट पर थोक गल्ला व्यापारी को चुना और वहां से भागने के लिए रास्ता भी चुना। एसपी ने घटना के बाद इन आरोपितों पर 10 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था।

150 सीसीटीवी कैमरे खंगाले, मोबाइल लोकेशन से मिली सफलताः

बीच शहर में दिनदहाड़े हुई लूट की इस घटना ने पुलिस महकमे में हडकंप मचा दिया। दूसरी ओर व्यापारी वर्ग में भी इसे लेकर तनाव का माहौल था। पुलिस को बदमाशों के सुराग के तौर पर एक सीसीटीवी फुटेज मिला, जिसमें लूट से पहले तीनों आरोपित दिखे। इसके बाद पुलिस अफसरों ने शहर में लगे 150 से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज देखे, लेकिन पुलिस विभाग के अधिकांश कैमरे खराब थे। ऐसे में पुलिस की साइबर सेल ने बदमाशों की पहचान व धरपकड़ में खासी भूमिका अदा की। घटना स्थल पर घटना के समय जो मोबाइल नंबर एक्टिव थे, उन सभी की एक-एक से छानबीन की। इसमें हरिओम शर्मा की लोकेशन मिली। इसके बाद पूरी परतें खुलती गईं।

आरोपियों के पास लूट का एक पैसा नहीं मिलाः

व्यापारी के अनुसार आंखों में मिर्ची झोंकने वाले बदमाश उसकी पेटी से 20 हजार रुपयों को लूटकर ले गए, लेकिन पुलिस जांच में सामने आया है कि व्यापारी की पेटी में इतनी मोटी रकम थी ही नहीं। आंखों में मिर्ची झोंकने के बाद एक बदमाश ने दुकान में रखीं दो पेटी एक-एक करके खोलीं तो उनमें बही-खाते व अन्य सामग्री मिली। पकड़ में आए नाबालिग व दूसरे आरोपित हरिओम शर्मा ने भी पूछताछ में बताया कि वह व्यापारी की दुकान से रुपये नहीं लूट पाए। ऐसे में पुलिस अफसरों को अपनी जेब से जब्ती का रुपया दिखाना होगा या फिर पीड़ित व्यापारी से 20 हजार रुपये लेकर उसे बदमाशों से जब्ती दिखानी होगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close