मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। ग्वालियर-मुरैना-श्योपुर तक 199 किलोमीटर लंबी ब्राडगेज लाइन का काम पहले तीन चरणों में होना था, जो अब चार चरणों में होगा। अब पहला चरण ग्वालियरसे जौरा तक होगा। 48 किलोमीटर लंबी इस ब्राडगेज लाइन का काम तेजी से चल रहा है और रेलवे का दावा है कि इस साल के अंत तक ग्वालियर से जौरा तक ट्रैक तैयार कर पटरियां बिछा दी जाएंगी।

ब्राडगेज लाइन प्रोजेक्ट का पहला चरण ग्वालियर से सबलगढ़ तक करीब 85 किलोमीटर का ट्रैक तैयार होना था। इसके लिए साल 2024 की समयसीमा रखी गई थी, लेकिन अब पहले चरण को छोटा कर दिया गया है, जो अब ग्वालियर से जौरा के अलापुर तक 48 किमी का होगा। इस पर तेजी से काम चल रहा है और इस वित्तीय वर्ष के अंत तक ग्वालियर से जौरा तक का ब्राडगेज ट्रैक पूरा कर दिया जाएगा। इस ट्रैक पर पेंसेंजर ट्रेन चलाने की योजना भी है, जिससे 2023 के विधानसभा और फिर होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रदेश व केंद्र सरकार को फायदा मिल सके। झांसी रेल मण्डल के अनुसार 48 किमी का ब्राडगेज ट्रैक तो इस साल के अंत तक तैयार कर दिया जाएगा, लेकिन इस पर ट्रेन संचालक का फैसला रेल मंत्रालय करेगा।

12 पुलों का निर्माण चल रहाः

ग्वालियर से श्योपुर तक बिछने वाली ब्राडगेज लाइन के लिए नदी, नालों पर कुल 138 पुल-पुलियाओं का निर्माण होगा। इनमें 40 बड़े और 98 छोटे पुल हैं। ग्वालियर से जौरा तक के 48 किमी लंबे रूट में 12 पुलों का निर्माण हो रहा है। इन पुलों के निर्माण का ठेका पुणे की आईएससी कंपनी को दिया गया है।

बामौर व जौरा में बनेंगे बी क्लास स्टेशन

रेलवे पटरियां बिछाने और पुलों के निर्माण का काम चल रहा है। कई पुलों का निर्माण 60 से 70 फीसद पूरा हो चुका है। अब रेलवे स्टेशनों का निर्माण भी जल्द शुरू होगा। मुरैना जिले में बामौर गांव, सुमावली और फिर जौरा में रेलवे स्टेशन बनाए जाने हैं। बामौर गांव व जौरा का रेलवे स्टेशन बी क्लास का होगा, यानी यहां आमने-सामने से आने वाली ट्रेनों की क्रासिंग की सुविधा रहेगी।

वर्जन

- पहला चरण अब ग्वालियर से सबलगढ़ की बजाय ग्वालियर से जौरा के अलापुर तक का होगा, जिसकी लंबाई 48 किमी है। इस ट्रैक को चालू वित्त वर्ष में पूर्ण कर लिया जाएगा। ट्रैक को ट्रेन चलाने लायक बना दिया जाएगा, लेकिन इस पर ट्रेन संचालन को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ, यह फैसला मंत्रालय करेगा।

आशुतोष,डीआरएम, झांसी रेल मंडल

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close