फोटो,41ए-सबलगढ़ में टिड्डी दल।

-सबलगढ़ शहर स्थित कुछ हिस्सों के ऊपर से गुजरी टिड्डी

सबलगढ़। सबलगढ़ में टिड्डी के हमले की आशंका थी, जो सच भी हुई। गुरुवार को ही श्योपुर की तरफ इसे देखा गया था। जिसके बाद शुक्रवार को इस आफत ने सबलगढ़ में प्रवेश कर लिया। जिस पर यह सबलगढ़ नगर सहित कुछ हिस्सों में आसमान से उड़ते हुए चंबल की तरफ पूर्व उत्तर दिशा की ओर निकल गईं। हालांकि प्रशासन इसके लिए अलर्ट पर था। वहीं अगर रात होने पर यह यहां रुकतीं तो इससे रात में ही निपटने की योजना बनाई गई थी। गनीमत रही कि टिड्डियां सबलगढ़ होते हुए ही निकल गईं।

उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के बीच लोगों के लिए एक और समस्या टिड्डी के रूप में सामने आई। टिड्डी दल किसी भी फसल को पूरी तरह खत्म कर सकता है। इनकी तादात जितनी ज्यादा होती है, उनसे बचाव करना भी उतना ही मुश्किल हो जाता है। यह मुसीबत शुक्रवार को सबलगढ़ क्षेत्र में आई। श्योपुर क्षेत्र में पहुंचते ही प्रशासन इससे बचाव की तैयारियों में जुट गया था। जिसके लिए एसडीएम सबलगढ़ ने भी सीईओ, सचिव, रोजगार सहायकों व अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की। वहीं अगर यह टिड्डी यहां किसी भी पंचायत में रुकती है तो कैमिकल का छिड़काव कर इसे खत्म किया जाएगा। दरअसल टिड्डी दिन में ही उड़ती हैं और रात में यह बसेरा कर लेती हैं। ऐसे में इसे रात के समय ही कैमिकल छिड़कर खत्म करने की योजना बनाई गई। शुक्रवार को यह सबलगढ़ नगर के आसमान में छा गईं। दोपहर के समय यह तेजी के साथ पूरा झुण्ड नगर के ऊपर से गुजरा। जो कि मांगरौल व अन्य गांवों के ऊपर से चंबल की तरफ चली गईं, लेकिन बताया जाता है कि यह चंबल की तरफ गई जरूर थी, लेकिन शनिवार को इसे वापस श्योपुर की तरफ ही देखा गया है। संभवतः हवा के प्रभाव से यह वापस चली गई हों, लेकिन टिड्डी के गुजरने के बाद प्रशासन ने भी राहत की सांस ली।

कैलारस में भी नहीं दिखी टिड्डियां

टिड्डी दल के कैलारस की तरफ जाते हुए देखा गया था। चूंकि पहले से ही जनपद सीईओ ने सभी सचिव व रोजगार सहायकों को इस बात के लिए अलर्ट कर दिया था, लेकिन यह टिड्डी दल कैलारस की किसी भी पंचायत की तरफ नहीं आया। सबलगढ़ की तरफ से चंबल के बीहड़ों की तरफ गईं। इसके बाद यह वापस श्योपुर की तरफ मुड़ गईं।

फसल नहीं खेतों में तो ज्यादा नहीं थी चिंता

इस समय खेत पूरी तरह से सूने पड़े हुए हैं, जिससे टिड्डी से बहुत ज्यादा खतरा नहीं था। क्योंकि यह फसलों के लिए बेहद नुकसानदायक है। इसके बावजूद कुछ जगहों पर सब्जी व अन्य कुछ जगहों पर फसलें हैं। उन्हें यह प्रभावित कर सकती थीं, लेकिन गनीमत है कि यह आफल आसमान के रास्ते से गुजर गईं।

कथन

-टिड्डी के आने के बाद हम पूरी तरह से तैयार थे। कैमिकल से छिड़काव के लिए संसाधन तैयार किए गए थे, लेकिन यह ऊपर से ही गुजर गईं। अब शनिवार को सूचना मिली है कि श्योपुर क्षेत्र में झुण्ड देखा गया है।

एमपी सिंह, सीईओ जनपद पंचायत सबलगढ़

-पटवारियों व सचिवों से रिपोर्ट मंगाई गई थी, लेकिन यह टिड्डी किसी भी पंचायत में नहीं ठहरी हैं।

गिर्राज शर्मा, सीईओ जनपद पंचायत कैलारस

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना