मुरैना (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Coronavirus Indore News : इंदौर से भागे जमाती अपने घर उत्तर प्रदेश के रामपुर जाना चाहते थे। क्वारंटाइन केंद्र से भागते ही उन्हें केले लेकर उप्र जा रहा ट्रक मिल गया। मुंहमागा दाम देकर वे उसमें सवार हो गए। यह ट्रक कई जिलों में बिना चेकिंग के ही निकल गया। इस दौरान केवल गुना में एक ढाबे पर खाना पैक कराया गया।

इंदौर से समय रहते सूचना मिलने पर ट्रक को राजस्थान की सीमा से पहले पकड़ लिया गया। इंदौर के क्वारंटाइन केंद्र से भागे कोरोना संक्रमितों सहित 4 जमातियों को गुरुवार रात मुरैना की सरायछोला थाना पुलिस ने पकड़ा था। ट्रक में इंदौर से भागे अब्दुल सलाम, रईश आलम, तनवीर हमीर हुसैन व मुंशी रफीक थे। चार में से तीन ट्रक के केबिन की छत पर बैठे थे। उन्हें पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग के सुपुर्द कर दिया। ट्रक के ड्राइवर व क्लीनर को भी भर्ती कराया गया है।

शिवपुरी रोड से बदला था रास्ता

चारों जमातियों ने ट्रक ड्राइवर से कहकर ग्वालियर की सीमा में आने पर रास्ता बदलने की बात कही थी, जिससे वे पुलिस की गिरफ्त में न आ सकें। इंदौर पुलिस चारों के मोबाइल नंबर से उनकी लोकेशन ट्रेस कर रही थी। जब उनकी लोकेशन मुरैना हाइवे पर मिली तो सरायछोला थाने को सूचना दी गई।

मजबूरी बताकर ट्रक में बैठे थे

चारों डॉक्टरों को जमातियों ने बताया कि उनके सैंपल पॉजिटिव आ गए थे और वे अपने घरों से दूर फंसे थे। इसलिए उन्होंने भागने का प्लान बनाया। इंदौर में हाईवे पर उन्हें केले से भरे ट्रक को रोका। ट्रक भी उप्र ही जा रहा था, इसलिए ट्रक ड्राइवर को मजबूरी बताई। मुंहमांगा किराया देने पर ड्राइवर ने उन्हें बैठा लिया।

दोनों कोरोना पॉजिटिव को बर्न वार्ड में रखा

अस्पताल प्रबंधन ने कोरोना संक्रमित अब्दुल सलाम व रईश आलम को आइसोलेशन वार्ड में रखने की जगह बर्न वार्ड में रखा है। दो कोरोना संदिग्ध तनवीर हमीर हुसैन व मुंशी रफीक तथा ट्रक के ड्राइवर-क्लीनर को अभी मेडिकल वार्ड में रखा है, क्योंकि इनमें कोरोना की इंदौर से पुष्टि नहीं है। ड्राइवर-क्लीनर सहित सभी को सैंपल लिए अस्पताल प्रबंधन ने चारों जमातियों व ट्रक ड्राइवर-क्लीनर के भी सैंपल कराए हैं।

अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक इंदौर से उन्हें कोई रिपोर्ट नहीं मिली है। इसलिए सभी के सैंपल कराए हैं। प्रबंधन के मुताबिक चारों को कोरोना पॉजिटिव मानकर ही इलाज किया जा रहा है।

केले को लेकर फंस गई पुलिस

जिस ट्रक में जमाती इंदौर से मुरैना आए है, उसमें केला भरा हुआ है।भीषण गर्मी में केला जल्दी खराब हो जाता है। ट्रक ड्राइवर व क्लीनर अस्पताल में भर्ती हैं। ऐसे में जब तक उनकी रिपोर्ट निगेटिव नहीं आ जाती, तब तक उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज नहीं किया जाएगा। इसमें चार से पांच दिन का समय भी लग सकता है।

थाना प्रभारी योगेंद्र यादव का कहना है कि वरिष्ठ अफसरों से इस संबंध में मार्गदर्शन लेकर कार्रवाई करेंगे। जमाती ट्रक के अंदर व केबिन के ऊपर छत पर बैठे थे। ऐसे में इन दोनों ही जगहों पर वायरस की आशंका है। इसलिए पुलिस ट्रक से दूर भी है। ट्रक अलीगढ़ के हमवीर सिंह का है।

इनका कहना है

यूं तो चारों का उपचार पॉजिटिव मानकर कर रहे हैं। फिर भी सभी के सैंपल लिए हैं। साथ ही बतौर सुरक्षा व सावधानी की वजह से इन्हें बर्न वार्ड में रखा गया है। साथ ही वार्ड के पास पुलिस बल भी तैनात किया गया है।

डॉ. आरसी बांदिल, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, मुरैना

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस