मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्वच्छ भारत अभियान में अच्छे नंबर पाने के लिए नगर निगम प्रशासन साफ-सफाई के जितने जतन कर रहा है, उसका असर धरातल पर नजर नहीं आता। शहर की साफ-सफाई की बदहाली और निगम अफसरों की मनमानी के हाल ऐसे हैं, कि जनप्रतिनिधियों तक की सुनवाई नहीं हो रही। इसी से निराश होकर मुरैना विधायक के प्रतिनिधि ने शहर के मैन बाजार में साफ-सफाई व सड़क की मरम्मत के लिए सीएम हेल्पलाइन पर गुहार लगानी पड़ी है।

शहर के मुख्य बाजार वार्ड नंबर 17 के गोपीनाथ पुलिया क्षेत्र पर चारों तरफ व्यापारियों की दुकानें हैं। यहां साफ-सफाई की हालत ऐसी है कि सुबह झाड़ू लगाने वाले नगर निगम के सफाई कर्मचारी कचरे को इकट्टा करके सड़क किनारे ही इकट्ठा कर जाते हैं। इसके बाद यह कचरा दिनभर सड़कों पर बिखरा रहता है। इसके अलावा गोपीनाथ पुलिया चौराहा की मुख्य सड़क धंसकर गड्ढा बन गई है। इस गड्ढे के कारण कई बार हादसे हो चुके हैं। इन्हीं समस्याओं से परेशान साड़ी व्यवसायी और विधायक राकेश मावई के प्रतिनिधि आशीष मित्तल ने कई बार नगर निगम आयुक्त से लेकर स्वच्छता के नोडल आफिसर ललित शर्मा को इसकी शिकायत की, लेकिन अफसरों ने सुनवाई नहीं की। इसके बाद विधायक प्रतिनिधि आशीष मित्तल ने 7 अगस्त को सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत (शिकायत नंबर 18622283) दर्ज कराई है, जिसमें उन्होंने मुख्य बाजार, गोपीनाथ की पुलिया, गर्ल्स स्कूल रोड किनारे दिनभर लगे रहने वाले कचरे के ढेरों व धंसी हुई सड़क की शिकायत की है।

सुबह से दोपहर और शाम को फिर कचरे के ढेरः

विधायक प्रतिनिधि आशीष मित्तल ने जो शिकायत की है, वैसे हाल शहर के अधिकांश क्षेत्र के हैं। मिल एरिया रोड, चंबल कालोनी रोड, वनखंडी रोड, शिवनगर, केशव कालोनी, संजय नगर कालोनी से लेकर शहर की मुख्य सड़क एमएस रोड की हालत यह है कि रोज सुबह सफाईकर्मी जगह-जगह कचरे व गोबर के ढेर लगा जाते हैं। दोपहर तक नगर निगम के वाहन इन कचरे के ढेरों को उठाने आते हैं, इसके बाद शाम 5 बजे से फिर यह कचरे के ढेर लगना शुरू हो जाते हैं। शहर में कचरा एकत्रित करने के लिए न तो बड़े डस्टबिन है और नहीं कोई ऐसी सुविधा कि इन कचरे के ढेरों से मुरैना को मुक्ति मिल सके।

वर्जन

- नगर निगम के आयुक्त से लेकर साफ-सफाई का जिम्मा संभालने वाले अफसरों को गंदगी, कचरे के फोटो-वीडियो उनके वाट्सअप पर भेजे लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। 7 अगस्त को सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत की, उसे भी 10 दिन हो गए पर कोई सुधार नहीं हुआ, यह स्थिति चिंताजनक है।

आशीष मित्तल

विधायक प्रतिनिधि

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close