शिवप्रताप सिंह जादौन, मुरैना। भारत सरकार अब नए संसद भवन के निर्माण को औपचारिक प्रक्रिया शुरू कर चुकी है, 2022 का संसद सत्र नए भवन में ही होगा। आइये अब चंबल के बीहड़ों का रुख करें, कहा जाता है कि यहां मौजूद भव्य स्थापत्य को देख ही लुटियन ने वह भवन बनाया, जो भारतीय संसद भवन बना। जिसे डकैतों के खौफ से संरक्षण मिला, वह विरासत देश-दुनिया में पहचान बना रही है। वर्ष 2000 के बाद से भारतीय पुरातत्व विभाग और प्रदेश सरकार के प्रयासों से मुरैना, मप्र के निकट स्थित यह स्थल लगातार सुर्खियों में है। विस्तृत शिवमंदिर श्रृंखला और चौसठ योगिनी मंदिर के रूप में ऐसी गोलाकार संरचना, जिसे भारतीय संसद भवन की प्रेरणा बताया जाता है, यहां मौजूद है। बिना किसी प्रचार प्रसार के ही इन स्मारकों की ख्याति देश भर में फैल चुकी है।

लंबे दायरे में फैले मुरैना के बटेश्वरा शिव मंदिर समूह ने इस बात को स्थापित किया है कि संसद भवन से कई सदी पहले ही इसी तरह की हू-ब-हू संरचना चंबल घाटी के जंगलों में बनाई जा चुकी थी। खुद भारतीय पुरातात्विक सर्वेक्षण विभाग अपने दस्तावेजों में इस बात का उल्लेख कर चुका है कि मितावली मंदिर, बटेश्वरा और नरेश्वर शिवमंदिर समूह जैसी संरचनाएं और कहीं नहीं मिलतीं। साल 2000 तक चट्टनों व कटीली झाड़ियों के बीच छिपी यह संरचनाएं किसी की नजर में नहीं आई थीं। चंबल के डकैतों के डर से इन जंगलों में कभी कोई बाहरी व्यक्ति नहीं पहुंचा। यही वजह रही कि पानी के वेग और भूचालों को सहते हुए भी यह संरचनाएं मूर्ति तस्करों और खनन माफिया से बची रहीं।

मुहम्मद को सपने में दिखे थे ये मंदिर : साल 2000 में स्थानीय पुरातत्व विभाग की जानकारी में आया कि इस तरह की कुछ संरचनाएं यहां हैं। लेकिन इनकी किस्मत तब बदली जब 2005 में सीनियर ऑर्कलॉजिस्ट केके मुहम्मद की पदस्थापना सेंट्रल जोन में हुई। वे अब रिटायर हो चुके हैं और दावा करते हैं कि उन्होंने शिवमंदिर समूहों को यथारूप सपने में देखा था और अगले दिन साथियों से इसकी चर्चा की तो पता चला कि उनका ख्वाब झूठा नहीं था।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना