मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। अंबाह कस्बे में मंगलवार की रात को नावली गांव के युवक गौरव तोमर की तीन आरोपितों ने गोली मारकर हत्या कर दी। रात में ही पुलिस को पता चला कि चला कि गौरव की हत्या उसके ही पार्टनर ने पैसों के लेनदेन पर की है। दरअसल गौरव तोमर मिढैला गांव के पूर्व फौजी ऋषिकेश मिश्रा के साथ पार्टनशिप में चार एंबुलेंस खरीदी थी, लेकिन चार पांच महीने इन एंबुलेंस में उन्हें घाटा पड़ गया। जिस पर कुछ पैसे ऋषिकेश के गौरव तोमर पर आ रहे थे। इन्हीं पैसों को लेकर ऋषिकेश व उसके दो साथियों ने कहासुनी होने के बाद अंग्रेजी शराब ठेका के सामने अपनी 12 बोर की बंदूक से दो गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने रात में ही सीसीटीवी फुटेज खंगाले। इसके बाद रात एक बजे के करीब यहां आरोपित ऋषिकेश और उसके दो अन्य साथियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया। दूसरे दिन बुधवार को भारी तनाव के बीच पीएम कराया गया। इस दौरान अंबाह के बाजार पूरी तरह से बंद रहे। स्वजन आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे।

उल्लेखनीय है कि नावली गांव निवासी गौरव उर्फ गोरे तोमर रात साढ़े नौ बजे शराब ठेका पर पहुंचा। उसी समय बाइक से आए बदमाशों ने मिलकर गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। रात में ही मौके पर सैंकड़ों की संख्या में मृतक के स्वजन व रिश्तेदार जमा हो गए थे। जिसके बाद पुलिस ने छानबीन के बाद एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया। जिसमें ऋषिकेश तोमर हाथ में बंदूक लिए दिखा, वहीं उसके दो साथी साथ में थे। पुलिस ने मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी। गौरव तोमर के शव को पुलिस ने पीएम के लिए भिजवा दिया। बुधवार की सुबह यहां लगभग चार सैंकड़ा के करीब लोग जमा हो गए। पीएम हाउस पर फोर्स भी तैनात कर दिया गया। इस बीच स्वजन पीएम कराने के लिए तैयार नहीं हुए। उनकी मांग थी कि पहले आरोपितों को गिरफ्तार किया जाए। इसके साथ ही आरोपितों के घरों को बुलडोजर से ढहाया जाए। इसके बाद ही पीएम कराया जाएगा। इस बीच एसडीओपी मेहरा व टीआइ स्वजन को समझाइश दे रहे थे। स्वजन इस मामले में शराब ठेका के सामने नमकीन की दुकान चलाने वाले युवक को भी गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। इसकी वजह थी कि स्वजन का कहना था कि आरोपित उसी की दुकान पर बैठे थे। इसलिए उससे पूछताछ की जाए, जिससे उन अन्य दो साथियों के बारे में भी पता चले। सुबह 11 बजे तक पुलिस स्वजन को समझाइश देती रही। इसके बाद पुलिस ने कहा कि दुकानदार को हिरासत में ले लिया गया और और पूछताछ की जा रही है। इसके बाद स्वजन पीएम के लिए तैयार हुए। इस बीच पूरे कस्बे में तनाव की स्थिति बनी रही। पुलिस भी बाजार में लगातार भ्रमण करती रही।

पूर्व में हुई घटना से आशंकित व्यापारियों ने रखे बाजार बंदः

यहां बुधवार को अंबाह के बाजार पूरी तरह से बंद रहे। व्यापारियों ने स्वयं की इच्छा से बाजारों को बंद रखा। इसकी वजह बताई जा रही है कि कुछ महीने पहले हर्ष फायर में एक युवक की मौत के बाद अंबाह कस्बे में बवाल मच गया था। ऐसे में युवक गौरव तोमर की हत्या के बाद भी ऐसी कोई स्थिति न बने और दुकानदारों को कोई खतरा हो। इसलिए व्यापाारियों ने दुकानों को खोला ही नहीं। वहीं कस्बे में हत्या के बाद तनाव की स्थिति भी बन रही थी। लगभग तीन सौ से चार सौ लोग जमा हो गए। ऐसे में कभी भी आक्रोश फूट सकता था। यहां युवक के अंतिम संस्कार होने के बाद दोपहर दो बजे कुछ दुकानदारों ने जरूर अपनी दुकानों को खोला।

पुलिस दे रही दबिश, आरोपित घर खाली कर भागेः

आरोपित ऋषिकेश मिश्रा को पकड़ने के लिए पुलिस उसके गांव मिढैला में रात में ही दबिश देने के लिए पहुंच गई, लेकिन आरोपित के स्वजन को रात में ही पता चल गया। जिस पर आरोपित के स्वजन भी घर में ताला लगाकर भाग गए। इसके बाद पुलिस आरोपित के रिश्तेदारों के यहां भी दबिश दी। बताया जाता है कि पुलिस ने कुछ रिश्तेदारों को भी हिरासत में ले लिया है। जिससे आरोपित तक पहुंचा जा सके। उधर सुबह हंगामें के दौरान मृतक के स्वजन भी आरोपितों को गिरफ्तार करने व घरों पर बुलडोजर चलाने की मांग कर रहे थे। जिस पर पुलिस ने जैसे तैसे समझाइश दी। हालांकि आरोपित अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर ही बताए जा रहे हैं। वहीं मृतक का पीएम कराने के बाद उसका अंतिम संस्कार नावली गांव में कराया गया। इस दौरान यहां भारी मात्रा में पुलिस फोर्स तैनात रहा। चार से पांच वाहन और ब्रज वाहन के बीच ही शव को गांव तक पहुंचाया गया। इसके बाद मृतक का अंतिम संस्कार दोपहर में कराया गया।

कथन

-तीन लोगों पर एफआइआर दर्ज कर ली गई है, आरोपित ऋषि मिश्रा अभी पुलिस की पकड़ में नहीं आया है। उसके घर दबिश दी गई तो ताला लगा हुआ है। पुलिस उसकी रिश्तेदारी में भी दबिश दे रही है। नमकीन दुकानदार को भी पूछताछ के लिए बिठाया है। जिससे पूछताछ की जा रही है।

परिमाल सिंह मेहरा, एसडीओपी अंबाह।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close