पोरसा(नईदुनिया न्यूज)। नगर पालिका के जिम्मेदारों की लापरवाही का दंश अब बाइपास पर रहने वाले हजारों लोग भुगत रहे हैं। दरअसल यहां छह महीने पहले एक नाला निर्माण कराया गया। जो बेहद बेतरतीब तरीके से कराया गया है। जिससे अब इलाके में पानी की निकासी तक नहीं हो पा रही है। जिससे जलभराव के चलते लोग बेहद परेशान है। दूसरी परेशानी यहां सड़क के बीचों बीच से निकाला गया नाला है। जो सड़क से लगभग दो फीट ऊंचा हैं ऐसे में जो भी वाहन यहां से गुजरता है वह इसमें फंसकर रह जाता है। यहां पिछले तीन दिन से एक रेत से भरा हुआ ट्रक फंसा खड़ा है। जिसे जेसीबी मशीन से भी नहीं निकाला जा सका है। लापरवाही इस कदर है कि यहां जिस नाले से यह जोड़ा गया है वह लगभग दो फीट ऊंचा है। जिससे एक बूंद पानी की निकासी नहीं हो पा रही है।

उल्लेखनीय है कि कस्बे के तीन किमी के बाइपास पर छह महीने पहले पानी की निकासी के लिए नगर पालिका ने नाला निर्माण कराया। करोड़ रुपये की लागत से इसका निर्माण कार्य कराया गया। लेकिन यह अब स्थानीय लोगों के लिए मुसीबत बनकर रह गया है। दरअसल यहां नगर पालिका के जिम्मेदारों ने इसके निर्माण के दौरान ध्यान नहीं दिया। जिसकी वजह से अब इस नाले से पानी की निकासी हो ही नहीं रही है। अटेर रोड की तरफ से बाईपास पर जो नाला बनाया गया है वह बेहद नीचा नाला बनाया गया है। इसके आगे यह नााला गोपालपुरा बाईपास पर बनाए गए नाले से जोड़ा गया है। लेकिन गोपालपुरा का यह नाला इस नाले से लगभग दो फीट ऊंचा है। जिससे यहां से पानी की निकासी हो नहीं पाती है। ऐसे में बारिश होते ही पानी ओवर फ्लो होकर बाइपास रोड पर आकर जमा हो जाता है। यहां सड़क भी पूरी तरह से जर्जर हो चुकी है। जिसकी वजह से यहां हादसे भी लगभग हर दिन हो रहे हैं। अटेर रोड की तरफ ही नाले को बीच सड़क से क्रास कराकर दूसरे नाले से जोड़ा है। हालांकि अभी तक यह नाला खोला नहीं गया। जिससे पानी की निकासी हो सके। यह पुलिया सड़क से दो फीट ऊंची है। ऐसे में यहां वाहन आकर फंस जाते हैं। तीन दिन पहले रेत से भरा हुआ ट्रक यहां से गुजरा तो ट्रक के आगे के पहिए तो निकल गए, लेकिन पीछे के पहिए इस पुलिया को पार नहीं कर पाए। प्रयास में यह कच्ची सड़क में धंस गए। अब तीन दिन से यह ट्रक सड़क पर ही फंसा खड़ा है। जिसे जेसीबी की मदद से भी नहीं निकाला जा सका है। जिससे यहां रास्ता अवरुद्ध हो रहा है।

नाला निर्माण भी छोड़ दिया अधूराः

यहां करोड़ों रुपये की लागत से नाला निर्माण का काम चालू किया गया। जिसमें नाला अटेर रोड से गोपालपुरा होते हुए भिंड रोड तक जाना था। लेकिन यहां पहली चीज तो यह बेतरतीब नाला बनाया गया। दूसरी पड़ी परेशानी यह है कि यह नाला भी अधूरा छोड़ दिया गया। यहां नाला गोपालपुरा से लेकर रघुनाथ गार्डन तक ही बनाया गया है। इससे आगे इसका निर्माण नहीं कराया गया। जबकि यह नाला लगभग 500 मीटर आगे भिंड रोड तक बनाया जाना चाहिए था। अब इस अधूरे और बेतरतीब नाले से पानी की निकासी नहीं हो पा रही है। जिससे लोग इसे सांठगांठ का नतीजा बता रहे हैं। यहां भिंड रोड पर बड़े नाले में इसे मिलाया जाना था, जिससे पानी की निकासी हो सके। लेकिन इस नाले से कहीं भी निकासी नहीं हो पा रही है।

एस्टीमेट के हिसाब में बड़ा नाला, मौके पर बनाया संकराः

यहां नाला के शेप को भी बदला गया है। दरअसल यहां बड़ा नाला बनाना प्रस्तावित था। लगभग पांच से छह फीट चौड़ा नाला बनाया जाना था। जिससे अन्य नालों को जोड़कर इससे पानी की निकासी की जा सके। लेकिन ऐसा यहां नहीं किया गया। जिससे नाला यहां संकरा महज दो फीट चोड़ा ही बनाया गया है। जबकि पोरसा के ड्रेनेज सिस्टम को ठीक करने के लिए इस नाले को बेहद कारगर बताया जा रहा था। लेकिन अब हालात यह है कि बेतरतीब नाला और संकरा नाला निर्माण होने से यह अब स्थानीय लोगों के लिए मुसीबत ही बन गया है। जहां से पानी की निकासी तो दूर बल्कि यह ओवर फ्लो होकर सड़क पर जलभराव कर देता है।

क्या कहते है लोगः

-यहां नाले की वजह से परेशानी खड़ी हुई है। सड़क को क्रास करती पुलिया है वह सड़क से दो फीट ऊंची है। जिसमें आए दिन वाहन फंसते है। वहीं नाले से पानी उफनकर सड़क पर भर जाता है। छह महीने पहले नाला बनाया। अब इससे परेशानी खड़ी हो गई है।

-कांती देवी, स्थानीय निवासी अटेर रोड बाइपास

-यहां बाइपास रोड़ की बेहद ज्यादा हालत खराब है। नाले की पुलिया से चार पहिया तो दुपहिया वाहन भी निकालने में परेशानी हो रही है। यहां चार से पांच ट्रक अभी तक फंस चुके हैं। नाले नीचे बने है। जिससे ज्वाइंट करने वाला नाला गोपालपुरा पर ऊंचा है। जिससे पानी की निकासी नहीं हो पा रही हैं बारिश के बाद तो यह नाला ओवर फ्लो हो जाता है।

विकास शर्मा, रहवासी बाइपास रोड

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close