मुरैना। सरायछोला थानांतर्गत तिलौंधा गांव में बंजर पड़े खेत को साफ करने गए भाइयों पर सरपंच पति और उसके परिजनों ने बुधवार सुबह ताबड़तोड़ फायरिंग कर दो लोगों की हत्या कर दी। आरोपितों की तरफ से हुई फायरिंग में कुल 7 लोग जख्मी हुए। इनमें से अजय उर्फ कलुआ पुत्र जनक सिंह के सिर में गोली लगी, जबकि देवेंद्र पुत्र भरत सिंह के पेट में गोली लगी। दोनों की जिला अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। राकेश पुत्र जनक सिंह के पेट में गोली लगी और उसे ग्वालियर अस्पताल रेफर किया गया है। इधर रामनिवास पुत्र सालिगराम, श्रीभान पुत्र रामवीर, दिनेश पुत्र रामवीर और भारत सिंह सालिग्राम को भी गोलियां लगी हैं, जिनका उपचार मुरैना जिला अस्पताल में चल रहा है।

बता दें कि तिलौंधा गांव में फायरिंग करने वाले आरोपित सरपंच पति रुस्तम सिंह के घर में लड़के की शादी थी। बुधवार शाम को बारात गांव से रवाना होनी थी, लेकिन घर के सामने पड़ी जमीन पर कब्जा बरकरार रखने के चक्कर में आरोपित ने गांव के ही 2 लोगों की लाशें बिछा दीं। घटना के बाद आरोपित अपने परिवार सहित फरार हो गया। वहीं गांव में एक ही परिवार के 4 घरों में मातम छा गया। गांव में फिलहाल पुलिस अधिकारियों ने भारी पुलिस बल के साथ डेरा जमा रखा है और यहां हालत तनावपूर्ण बने हुए हैं।

घटना में मारे गए अजय, देवेंद्र व अन्य भाइयों ने आपसी जमीन विवाद को बड़ी ही समझदारी से राजीनामा करके निपटाया था, उन्हें पता था कि जिस जमीन को लेकर वे आपसी मतभेद दूर कर रहे हैं, उस पर सरपंच ममता का पति नजरें गड़ाए बैठा है। लंबे समय से भाइयों के विवाद के कारण जमीन बंजर पड़ी थी और मन ही मन आरोपित रुस्तम सिंह ने इसे अपनी संपत्ति मान लिया था। घटना में मारे गए भाई पहले से होने वाले विवाद के बारे में जानते थे।

इन 4 घरों में मातम

घटना के बाद गांव के चार घरों में मातम फैल गया है। यह चारों घर एक ही परिवार के हैं। सभी का आपस में चाचा-ताऊ का रिश्ता है। घटना में जनक सिंह के बेटे अजय की मौत हुई है, जबकि राकेश जख्मी हैं। वहीं भरत सिंह के घर में बेटे देवेंद्र की मौत का मातम है। इधर सालिग्राम के बेटे रामविलास के पैर में भी गोली लगी है और बेटा भारत भी गोली लगने से जख्मी है। रामवीर के बेटे श्रीभान और दिनेश भी जख्मी हैं।

आरोपितों में से 3 के पास लाइसेंसी हथियार

मृतक देवेंद्र के परिवार के दीपक ने बताया कि आरोपित रुस्तम सिंह सहित 15 से अधिक लोगों ने मिलकर इस घटना को अंजाम दिया है। दीपक के मुताबिक इन आरोपितों में से तीन के पास लाइसेंसी बंदूक थीं। जबकि कुछ के पास अवैध हथियार थे। लाइसेंसी बंदूकों की दम पर वे गांव में कई लोगों पर पहले भी रौब गांठ चुके हैं।

घर खुला छोड़कर भाग गया आरोपित का परिवार

जिस खेत में आरोपित रुस्तम ने घटना को अंजाम दिया था। उस खेत के पास ही उसका मकान है। आरोपित इस मकान को खुला छोड़कर ही अपने परिवार के साथ भाग गया। घर में शादी समारोह की सारी तैयारियां भी धऱी रह गई हैं।

घटनास्थल पर एसपी, आरोपित फरार

अस्पताल में घायलों से मिलने के लिए एसपी असित यादव भी पहुंच गए। घायलों से बात करने के बाद एसपी फोर्स लेकर तिलौंधा गांव पहुंचे और वहां ग्रामीणों से घटना की जानकारी ली। फोर्स ने सरपंच रुस्तम सिंह सहित अन्य हमलावरों की भी गांव में तलाश की, लेकिन एक भी आरोपित पुलिस के हाथ नहीं लगा है। सभी आरोपी फरार हैं, जिनकी तलाश पुलिस द्वारा की जा रही है।

आरोपित को जल्द पकड़ेंगे

मुख्य आरोपित रुस्तम सिंह है, जिसे सरपंच पति बताया जा रहा है। आरोपित उस जमीन पर कब्जा करना चाहता था, जो फरियादी पक्ष की है। यह जमीन आरोपित के घर के सामने ही है। हम आरोपितों की तलाश कर रहे हैं। जल्दी ही आरोपित पकड़ लिए जाएंगे।

-असित यादव, एसपी मुरैना