Morena Lokayukta Caught Clark: मुरैना.नईदुनिया प्रतिनिधि। ग्वालियर की लोकायुक्त टीम ने मंगलवार की दाेपहर मुरैना के उद्योग एवं व्यापार केंद्र कार्यालय के बाबू 3000 रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ दबोचा है। उद्याेग एवं व्यापार केंद्र का बाबू, एक बेरोजगार युवक को डेयरी के लिए लोन दिलाने के एवज में 15 हजार रुपये की रिश्वत मांग रहा था। युवक पहली किश्त के 2000 रुपये दे चुका था, दूसरी किश्त के रुपयों के साथ बाबू लोकायुक्त के हत्थे चढ़ गया।

मंगलवार की दोपहर 12:30 बजे ग्वालियर लोकायुक्त इंस्पेक्टर बृजमोहन सिंह नरवरिया की अगुआई में 12 सदस्यीय टीम नेशनल हाईवे किनारे शिवनगर स्थत व्यापार एवं उद्योग केंद्र में पहुंची। लोकायुक्त की टीम सीधे स्वरोजगार योजना की शाखा में घुसे जहां, बैठे सहायक ग्रेड तीन बाबू देवेन्द्र गुप्ता को लोकायुक्त अफसरों ने अपना परिचय दिया और खड़ा होने को कहा। कांपते और पसीना पोंछते हुए बाबू खड़ा हुआ तो लोकायुक्त कर्मचारियों ने उनकी पेंट की जेब से रुपये निकलवाए। इन रुपयों का धुलवाया तो केमिकल वाला पानी गुलाबी रंग का हो गया।

7 लाख के डेयरी लोन के लिए मांगी 15 हजार घूस

उद्योग एवं व्यापार केंद्र के घूंसखोर बाबू देवेन्द्र गुप्ता को रंगे हाथ पकड़वाने वाले सेंथरा बढ़ई गांव के 35 वर्षीय विनोद सिंह पुत्र रामवरण सिंह गुर्जर ने बताया, कि उसने मार्च महीने में 7 लाख के डेयरी लोन के लिए आवेदन दिया था। 6 महीने से बाबू देवेन्द्र गुप्ता उसे बहाने बनाकर टहला रहा था। अंत में बाबू ने लोन प्रकरण को बैंक तक भेजने के एवज में 20 हजार रुपये मांगे। विनोद सिंह के अनुसार वह बाबू को 15 हजार रुपये देने तैयार हो गया। इसके बाद शनिवार 4 सितंबर को उसने 2000 रुपये बाबू को दिए। मंगलवार को वह 3000 रुपये की दूसरी किश्त देने से पहले सोमवार को लोकायुक्त के पास पूरे सबूतों के साथ पहुंच गया। लोकायुक्त टीम ने उसे केमिकल वाले रुपये देकर भेजा और रंगे हाथ घूंसखोर बाबू को दबोच लिया।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local