फोटो 11ए- महादेव नाके पर ई-रिक्शों का जमघट।

-परिवहन विभाग की कार्रवाई के बाद सड़कों पर बढ़ने लगे हैं अवैध ई-रिक्शे

-अवैध ई-रिक्शों पर ट्रैफिक पुलिस नहीं करती कार्रवाई

मुरैना। शहर में चल रहे अवैध और एसंबल्ड ई-रिक्शों पर परिवहन विभाग ने कार्रवाई की थी। इस कार्रवाई के बाद एमएस रोड पर अवैध ई-रिक्शों की संख्या काफी हद तक घट गई थी, लेकिन एक बार फिर से सड़कों पर ई-रिक्शों की संख्या में इजाफा होने लगा है। लोगों को बीते 4 से 5 दिन के लिए जो राहत महसूस हो रही थी, वह फिर से परेशानी में बदल गई है।

शहर में 16 सौ से ज्यादा अवैध ई-रिक्शे हैं जो रजिस्टर्ड नहीं है। एसेंबल्ड होने के कारण इनमें से ज्यादातर रिक्शे रजिस्टर्ड हो भी नहीं सकते। इसके बाद भी यह रिक्शे सड़कों पर फर्राटे भर रहे थे। पुलिस और प्रशासन द्वारा इन अवैध ई-रिक्शों के खिलाफ कार्रवाई न किए जाने के चलते शहर में ट्रैफिक समस्या बढ़ती जा रही थी। यही वजह थी कि पहली बार परिवहन विभाग ने करीब दो महीने पहले अचानक शहर के पुराना बस स्टैंड चौराहे पर पहुंचकर कार्रवाई शुरू की थी।

सहयोग नहीं कर रही ट्रैफिक पुलिस

कार्रवाई के बाद एमएस रोड पर घटी अवैध ई-रिक्शों की संख्या इसलिए भी घटी क्योंकि ट्रैफिक पुलिस सख्ती को बरकरार नहीं रख सकी। ट्रैफिक पुलिस सहित नगर निगम द्वारा भी अगले दिन अवैध ई-रिक्शों के खिलाफ सीधे कार्रवाई की जा सकती थी। लेकिन परिवहन विभाग की पीठ फिरते ही पुलिस और नगर निगम पुराने ढर्‌रे पर ही लौट आई।

ट्रैफिक समिति भी गंभीर नहीं

शहर में चलने वाले ई-रिक्शों को लेकर ट्रैफिक समिति भी गंभीर नहीं है। समिति की बैठक में भी इस संबंध में कोई चर्चा नहीं होती। जबकि इस समिति में प्रशासन, नगर निगम, पुलिस और परिवहन विभाग शामिल होते हैं। ऐसे में अगर प्रशासन चाहता तो ई-रिक्शों पर कार्रवाई के लिए और बीच का रास्ता निकालने के उद्देश्य से निर्णय लिया जा सकता था।

Posted By: Nai Dunia News Network