-फोटो, 53ए-फर्जी डाक्टर संजय।

अंबाह। सिविल अस्पताल अंबाह में 5 माह से फर्जी कागजातों के आधार पर एमडी डॉक्टर बनकर नौकरी करते रहे युवक संजय सिंह माहौर निवासी गौसपुर को पुलिस ने मंगलवार रात मुरैना से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने बताया कि वह कंपाउंडर था। उसे डॉक्टर बनने की सनक थी। इसी सनक में उसने फर्जी कागजों से सिविल अस्पताल ज्वाइंन कर लिया।

जानकारी के मुताबिक 30 मई को सिविल अस्पताल अंबाह में फर्जी तरीके से तैयार किया गया तबादला आदेश लेकर पहुंचे संजय को बीएमओ डॉ. डीएस यादव ने ज्वाइन कराया था। इस दौरान वह मरीजों का उपचार करता रहा। साथ ही एमएलसी और पोस्टमार्टम भी करता रहा। कुछ दिन पहले डॉक्टर की गतिविधियां संदिग्ध होने पर बीएमओ ने जब उससे कागज मांगे तो संजय अस्पताल में वापस नहीं आया। जिसके 23 दिन बाद मंगलवार रात को बीएमओ डॉ. डीएस यादव ने आरोपित के खिलाफ मामला दर्ज कराया। पुलिस ने रात में ही दबिश देकर संजय को मुरैना से गिरफ्तार कर लिया। टीआई अतुल सिंह ने बताया कि आरोपित के बयान लेकर उसे न्यायालय में पेश करने की प्रक्रिया की जा रही है।

कागजों में संजय अहिरवार की जगह लिखा संजय सिंह

फर्जी डाक्टर बनकर आए संजय सिंह माहौर ने इंटरनेट से आदेश प्राप्त कर उसमें कांट-छांट की, जिसमें किसी संजय सिंह अहिरवार के पत्र का इस्तेमाल किया गया। उसकी हर जानकारी को बदला गया। सिर्फ आदेश क्रमांक ही सही था। बीएमओ ने नेट से आदेश क्रमांक के आधार पर कागज निकाले तब इस पूरी घटना की जानकारी मिली।

Posted By: Nai Dunia News Network