धमतरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

चार दिन तक गंगरेल बांध के डुबान क्षेत्र के मिनी गोवा के नाम से प्रसिद्ध नकटी देऊर में रहने के बाद 21 हाथियों का दल मुरूमतरा के जंगल से होते हुए अब कांकेर जिले की सीमा में दाखिल हो गया है। इस तरह हाथियों का दल अब बस्तर संभाग के जंगलों में पहुंच गया है।

शुक्रवार 12 जून की शाम हाथियों का दल कांकेर जिले के नरहरपुर क्षेत्र के जंगल में जंगल में दाखिल हो गया। इससे एक दिन पहले हाथियों का दल नकटी देऊर में जमा हुआ था। यहां चार दिनों तक हाथी जमे रहे। गुरुवार 11 जून की रात हाथियों का दल नकटी देऊर से वापस सिलतरा लौट गया था। यहां की तीन केला बाड़ियों में केला की फसल को खाकर हाथियों ने नुकसान पहुंचाया। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है हाथी केला खाने वापस लौटे थे। अब फिर से हाथियों का दल शुक्रवार को मुरूमतरा से होकर कांकेर जिले के जंगलों में पहुंच गया है।

दल के तीन सदस्य गायब हो गए थे

21 सदस्यीय हाथियों के दल से अचानक तीन सदस्य गायब हो गए थे। दल में चार बच्चों समेत 18 सदस्य ही नकटी देऊर के जंगल में दिखाई दे रहे थे। इससे आशंका जताई जा रही थी कि तीन हाथी जिस रास्ते से आगे बढ़े थे, उसी रास्ते से होकर वापस लौट गए हैं। हरफर, बरबांधा, कलारबाहरा समेत आसपास के गांवों के ग्रामीणों ने बताया कि एक दिन पहले हाथियों के चिंघाड़ने की आवाज जंगल से आ रही थी। काफी देर तक हाथी चिंघाड़ते रहे, इससे अंदाजा लगाया गया कि दल से बिछड़े हुए हाथी चिंघाड़ते हुए अपने दल को खोज रहे थे। ध्वनि संकेत के माध्यम से हाथी फिर से अपने दल से मिल गए। वन विभाग का कहना है कि हाथियों के दल में शामिल हथिनी चंदा पर कॉलर आइडी लगाई गई है। उसके माध्यम से हाथियों का लोकेशन लगातार पता चल रहा है। वन विभाग की टीम भी लगातार हाथियों के पीछे चल रही है। डीएफओ अमिताभ बापजेयी ने बताया कि हाथियों का दल नकटी देऊर में चार दिन तक रहा। शुक्रवार को पहरियाकोना अरौद की तरफ हाथियों का दल आगे बढ़ा। मुरूमतरा के जंगल से होते हुए हाथियों का दल कांकेर जिले के नरहरपुर क्षेत्र के जंगल में दाखिल हो गया है।

---

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020