- करोना वायरस का असर

- शहर में धूल की समस्या की वजह से लोगों को जरूरत पड़ती है मास्क की। अस्पतालों में भी है खासी कमी

फोटो 1ए। मेडिकल दुकान से मास्क खरीदकर लगाते युवक।

मुरैना। कोरोनो वायरस का प्रभाव बेशक देश, प्रदेश व शहर पर न हो, लेकिन चीन में फैले इस वायरस से दहशत का असर अंचल पर भी आ गया है। संक्रमण रोकने के लिए लगाया जाना वाला मास्क अब पूरे शहर में नहीं मिल रहा। अगर एक-दो दुकानों में है भी तो 10 रुपए के मास्क के 50 रुपए वसूले जा रहे हैं। ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि मास्क में लगाया जाने वाला कपड़ा चीन से आता है, जो इन दिनों नहीं आ रहा। ऐसे में मास्क की कमी हो गई है।

उल्लेखनीय है कि संक्रामक बीमारी की चपेट में आने से बचने के लिए कपड़े के मास्क का उपयोग किया जाता है। चूंकि यह मास्क विशेष कपड़े से बनाया जाता है। जिससे मास्क लगाने के बाद लोग आसानी से सांस ले सकते हैं। इसका उपयोग अधिकतर लोग ऐसी जगहों पर जाने के दौरान करते हैं, जहां पर संक्रामक बीमारियां होने की आशंका रहती है।

शहर में इसलिए है वर्तमान में मास्क की जरूरत

शहर में वर्तमान में सीवर लाइन का काम चल रहा है। सीवर लाइन की वजह से पूरे शहर में धूल उड़ रही है। धूल से बचने के लिए लोग मास्क का उपयोग इन दिनों काफी कर रहे हैं। क्योंकि बिना मास्क के शहर में निकलने पर लोग धूल से होने वाली एलर्जी के शिकार हो जाते हैं। इसलिए वर्तमान में शहर में मास्क की डिमांड है, लेकिन लोगों को मिल नहीं रहे हैं।

ऐसे देखें असर

- जिला अस्पताल में वार्डों में जब स्टाफ काम करने जाता है तो मास्क लगाकर ही जाता है। अस्पताल में भी मास्क की कमी हो गई है। हालांकि अभी स्टॉक में कुछ हैं। प्रबंधन ने मास्क मंगाने के लिए आर्डर काफी पहले दिया हुआ है, लेकिन आपूर्ति नहीं हो पा रही है। ऐसे में अस्पताल में मुश्किल हो रही है।

- शहर में मास्क मेडिकल स्टोर्स पर मिलता है। शहर में तकरीबन सभी मेडीकल स्टोरों से मास्क गायब हो गया है। आमतौर पर एक मास्क 10 रुपए का आता है। लेकिन जिन मेडिकल स्टोरों पर यह मास्क मौजूद भी है, वे 10 की जगह 50 रुपए का बेच रहे हैं।

क्या कहते हैं मेडिकल स्टोर संचालक

- मास्क की आपूर्ति ही नहीं मिल पा रही है। हमारे पास तो सिंगल यूज मास्क बचे ही नहीं हैं। दिल्ली से जिस सप्लायर से मास्क मंगाते थे, उसका कहना है कि माल तैयार ही नहीं हो पा रहा है। क्योंकि चीन से कपड़ा ही नहीं आ पा रहा है। बाजार में एक-दो दुकानों पर ही ये मास्क अभी मौजूद हैं।

मनोज मंगल, मेडिकल स्टोर संचालक

इनका कहना है

- अभी तो स्टाक में मास्क हैं। वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए उनका उपयोग संभालकर करेंगे और डॉक्टर व स्टाफ को भी निर्देश देंगे। जिससे वे मास्क का उपयोग बहुत जरूरत पर ही करें।

डॉ. गजेंद्र तोमर, आरएमओ, जिला अस्पताल

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket