फोटो, 40ए-राजस्थान की ओर से बंद किया गया अटार घाट का पांटून पुल।

-एक तरफ नावों को भी डुबोया, दूसरी तरफ राजस्थान का रास्ता खोला

सबलगढ़। सबलगढ़ के अटार घाट पर चंबल पर बना पांटून पुल गुरुवार की शाम प्रशासन ने खोल दिया, जिससे अब सबलगढ़ सीधे राजस्थान से जुड़ गया। पुल को खोलने के पीछे इससे मजदूरों को लाया जाना बताया जा रहा है। खासबात यह है कि सबलगढ़ से मुरैना तक आने-जाने की आजादी अभी तक नहीं मिल पाई है। इस बीच प्रशासन ने पुल खोलकर राजस्थान से आवागमन को हरी झंडी दे दी। वहीं दूसरी तरफ उसैद घाट पुल के पट्टे तक हटा दिए गए थे। साथ ही घाटों पर रखीं नाव तक पानी में डुबा दी गई थीं। वहीं राजस्थान ने शुक्रवार को ही इस पुल को बड़ा सा पेड़ रखकर पूरी तरह से बंद कर दिया।

उल्लेखनीय है कि सबलगढ़ को राजस्थान से जोड़ने वाले अटार घाट पुल को लॉकडाउन होने के बाद बंद कर दिया गया था। राजस्थान, उत्तरप्रदेश से जोड़ने वाली सीमाओं को सील कर दिया गया था। वहीं 42 दिन बाद 7 मई को प्रशासन ने अटार घाट के इस पांटून पुल को खुलवा दिया। तहसीलदार राजस्व अमले के साथ पहुंचे। जहां इसे मजदूरों को लाने के नाम पर खोल दिया गया। अब परेशानी यह है कि इस पुल के माध्यम से सीधा राजस्थान से आवागमन शुरू हो जाएगा, जहां मप्र से भी ज्यादा कोरोना के मरीज हैं। ऐसे में जिन मजदूरों को बसों से लाया गया, उनकी जांच तक प्रॉपर नहीं हो पा रही है और उन्हें होम क्वारंटाइन किया जा रहा है। राजस्थान से सीधा रास्ता जोड़ने के बाद यहां से लोगों का राजस्थान से आना शुरू हो जाएगा, जिससे यहां संक्रमण का खतरा भी बढ़ने के आसार उतने ही बढ़ गए हैं। इसलिए इस फैसले को जल्दबाजी ही कहा जाएगा। खासबात यह है कि सबलगढ़ से जिला मुख्यालय मुरैना तक आने पर प्रतिबंध लगा हुआ है, लेकिन अब लोग राज्य की सीमा पार कर आ भी सकते हैं और यहां से जा भी सकते हैं।

उसैद घाट पर नाव भी डुबोई और पुल के पट्टे भी निकाले

वहीं दूसरी तरफ अंबाह में उसैद घाट भी उप्र की सीमा को जोड़ता है। लॉकडाउन के बाद यहां पांटून पुल के पट्टे तक निकाल दिए गए थे। जिससे कोई भी यहां से आवागमन न कर सके। दरअसल उसैद घाट पर उप्र का पीडब्ल्यूडी पुल निर्माण करता है, जिसने इस पुल को पूरी तरह से बंद कर दिया। इसके साथ ही जो नाव डाली गईं थी, उनमें भी पानी भरकर डुबो दिया गया।

राजस्थान ने पेड़ लगाकर किया पुल को बंद

एक तरफ सबलगढ़ प्रशासन ने इस पुल को गुरुवार की शाम खुलवाया, लेकिन राजस्थान की तरफ से प्रशासन ने इस पुल को बड़ा सा लगाकर बंद कर दिया, जिससे इससे आवागमन न हो सके। मप्र की सीमा की तरफ से यह पुल खुला हुआ है, लेकिन दूरी तरफ का रास्ता राजस्थान की ओर से बंद कर दिया गया है। जिससे इस कोरोना संकट से किसी तरह की विपत्ति न आ सके।

कथन

-कलेक्टर ने विशेष प्रयोजन से इस पुल को खोलने के आदेश दिए थे। जिस पर हमने शाम को जाकर इसे चालू कराया। अब अगर राजस्थान की ओर से बंद कर दिया गया है तो कलेक्टर से इस मामले में मार्गदर्शन लेंगे।

अजय शर्मा, तहसीलदार सबलगढ़

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना