फोटो 2ए। तेलीपाड़ा व सिकरवारी बाजार का कंटेनमेंट वाला क्षेत्र।

मुरैना। तेलीपाड़ा में कोरोना पॉजिटिव निकला युवक 16 मई को कोलकाता से मुरैना आया था। वह घर जाने से पहले सीधे अस्पताल में सैंपल देने के लिए पहुंचा था। 16 मई को उसका सैंपल नहीं लिया गया। उसे दूसरे दिन यानी 17 मई को सैंपल देने के लिए बुलाया गया। ऐसे में युवक को न केवल तेलीपाड़ा स्थित अपने घर जाना पड़ा। बल्कि परिवार के लोगों के बीच में रहना भी पड़ा। सैंपल होने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग ने उसे अस्पताल में नहीं रखा, बल्कि घर भेज दिया। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद न केवल युवक को अस्पताल लाया गया, बल्कि उसके परिवार के लोगों को भी। साथ ही तेलीपाड़ा सहित अन्य क्षेत्रों को सील करना पड़ा। यदि स्वास्थ्य विभाग युवक को 16 को ही अस्पताल में भर्ती कर लेता तो न तो परिवार वाले संपर्क में आते और न ही बाजार का व्यस्ततम क्षेत्र सील होता। ऐसा नहीं कि विभाग का यह पहला मामला हो। इससे पहले भी आधा दर्जन से अधिक मामलों में विभाग ने ऐसा ही किया।

गाइड लाइन के मुताबिक जो लोग बाहर से आ रहे हैं, खासतौर से रेड जोन से, उन्हें अस्पताल में रखना है और सैंपल रिपोर्ट आने के बाद ही उन्हें जाने देना है। लेकिन अस्पताल प्रबंधन सभी के सैंपल लेकर होम क्वारंटाइन रहने की कहकर घर भेज देता है। ऐसे में ये लोग बाद में पॉजिटिव निकलते हैं और परिवार सहित क्षेत्र के लोगों को परेशानी होती है।

इस तरह समझें स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही

- गोपालपुरा में अमर कॉन्वेंट स्कूल वाली गली की एक महिला आगरा में पॉजिटिव पाई गई थी। इस सूचना के बाद स्वास्थ्य विभाग ने उसके पति सहित परिवार के अन्य सदस्यों के सैंपल कराए। सैंपल कराने के बाद सभी को घर भेज दिया। बाद में पति सहित 11 लोग पॉजिटिव आए। बताया जाता है कि इस बीच महिला का पति पनीर व मोबाइल की दुकान पर भी बैठा। ऐसे में आशंका पैदा हो गई है कि उसके संपर्क में आने से पता नहीं कितने लोग कोरोना की जद में आए होंगे।

- इसी तरह मुंबई से पोरसा आए युवक का सैंपल लेने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने घर भेज दिया। बाद में वह तो पॉजिटिव पाया ही गया। साथ ही उसका भाई भी पॉजिटिव पाया गया। हालांकि वह जिनके संपर्क में आया, वे पॉजिटिव नहीं निकले। यदि संपर्क में आने वाले पॉजिटिव निकलते तो मुश्किल हो जाती।

- इसी तरह अंबाह में भी एक युवक अहमदाबाद से आने के बाद अस्पताल पहुंचा था, लेकिन सैंपल लेने के बाद उसे घर जाने दिया। हालांकि युवक व उसके परिजनों ने सावधानी बरती और वह गांव के बाहर ही रहा। यदि युवक घर या गांव में पहुंच जाता तो समस्या बढ़ जाती।

यह होती है परेशानी

- यदि सैंपल लेने के बाद कोई भी व्यक्ति घर पहुंच जाता है और बाद में पॉजिटिव आता है तो उसके परिवार के लोगों को क्वारंटाइन होना पड़ता है और उसके गांव या मोहल्ले को सील कर दिया जाता है, जिससे अन्य लोगों को भी परेशानी होती है।

- साथ ही जो लोग सैंपल देकर घर पहुंचते हैं, वे पूरी तरह से घर में होम क्वारंटाइन होकर नहीं रहते। ऐसे में वे गांव व मोहल्ले में घूमते हैं, जिससे अन्य लोगों के भी पॉजिटिव होने का खतरा बना रहता है।

इन मामलों में सावधानी बरती तो नहीं बढ़े कंटेनमेंट एरिया

- रविदास नगर का युवक अहमदाबाद से आया और सीधे अस्पताल पहुंचा। अस्पताल में उसका सैंपल हुआ और उसे भर्ती कर लिया गया, जिससे वह न तो अपने परिजनों के पास पहुंचा और न मोहल्ले में। ऐसे में न तो उसका वार्ड सील हुआ और न ही परिजन क्वारंटाइन हुए। साथ ही उसके प्राइमरी कॉन्टेक्ट में भी कोई नहीं आया।

- दिल्ली से आया हलवाई भी सीधे अस्पताल पहुंचा था। उसे भी भर्ती कर लिया गया। बाद में जब वह पॉजिटिव निकला तो न तो उसके घर व गांव को सील करने की जरूरत पड़ी और न ही उसकी कॉन्टेक्ट हिस्ट्री ही तलाशनी पड़ी।

- पोरसा में प्रशासन ने गांव के बाहर ही बाहर से आने वाले लोगों को रखा है। इनमें से छह लोग दो दिन पहले पॉजिटिव आए, लेकिन न तो गांव को कंटेनमेंट क्षेत्र में बदलने की जरूरत पड़ी और न ही कॉन्टेक्ट हिस्ट्री तलाशनी पड़ी।

स्वास्थ्य विभाग इसलिए कर रहा ऐसी लापरवाही

स्वास्थ्य विभाग सैंपल लेने के बाद बाहर के लोगों को घर इसलिए भेज देता है, जिससे भर्ती करने के बाद उसकी व्यवस्था न करनी पड़े। जब कोई पॉजिटिव आता है तो मजबूरी में उसे व उसके परिजनों को अस्पताल में भर्ती करता है। ऐसे में एक व्यक्ति के चक्कर में विभाग को कई लोगों की व्यवस्था करनी पड़ती है।

इनका कहना है

- सैंपल लेने व होम क्वारंटाइन करने का नियम गाइड लाइन में आया है। गाइड लाइन के मुताबिक ही काम किया जा रहा है। जिन मरीजों को सैंपल लेने के बाद होम क्वारंटाइन के लिए भेजा गया, बाद में उन्हें अस्पताल में भर्ती कर इलाज किया जा रहा है।

डॉ. आरसी बांदिल, सीएमएचओ

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस