मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)।

छैरा गांव में नकली, जहरीली शराब का उत्पादन किस भारी मात्रा में होता है, इसकी काली सच्चाई अब सामने आ रही है। पुलिस व आबकारी विभाग की टीमें जिस खेत में पांव (पैर) रख रही हैं, वहां जहरीली शराब बोरों में भरी मिल रही हैं तो कहीं शराब की पेटियां मिल रही हैं। तस्करों ने शराब को कुएं व तालाबों तक में छिपा दिया जो अब सामने आने लगी है। गुरुवार को प्रशासन की टीमों ने छैरा के तालाब से भारी मात्रा में शराब, खाली बोलतें व ढक्कन निकाले हैं तो कई खेतों में फसलों के बीच लावारिस हालत में शराब मिली है।

छैरा गांव के गंदे पानी के तालाब में आबकारी व पुलिस टीम को कुछ शराब की खाली व भरी हुई बोतले तैरती दिखीं। इसके बाद तालाब में खोज शुरू हुई तो यहां इतनी शराब निकली कि तीन गाड़ियों में भरकर थाने भिजवानी पड़ी। इसी तालाब के एक हिस्से में नकली शराब बनाने वाले ओपी केमिकल के ड्रम और हजारों ढक्कन पड़े थे। ग्रामीणों के अनुसार रात में ओपी के ड्रम तालाब में फेंके गए हैं, इससे पानी के जहरीला होने और इससे पक्षी व उन मवेशियों को खतरा बढ़ गया है, हो इस तलाब का पानी पीते हैं। इस तालाब से सरसों के दो अलग-अलग खेतों से चार पेटी से ज्यादा और एक आलू के खेत में बोरे में भरे 100 से ज्यादा क्वाटर जब्त किए गए हैं।

लाइसेंसी ठेकों पर भी शराब बिक्री घटीः

जहरीली शराब से लगातार हो रही मौतों की घटना ने उन लोगों को भी डरा दिया है जो देसी व अंग्रेजी शराब दुकानों से खरीदकर शराब पीते हैं। यह हम नहीं कह रहे, बल्कि बीते तीन दिन से शराब ठेकों पर घट रही ग्राहकों की संख्या बता रही है। शराब दुकानांें के काउंटर संभालने वाले कर्मचारियों ने बताया कि शराब से मौतों की घटना के बाद लगातार बिक्री कम हो रही है। बीते तीन दिन में किसी दुकान पर 25 तो किसी पर 30 फीसद तक ग्राहक कम हो गए हैं।

मृतक का बेटा बेचता था जहरीली शराबः

जहरीली शराब बनाने और बेचने वालों के घर तक मौत पहुंच गई है। शराब पीने के कारण बुधवार-गुरुवार की रात जान गवाने वाले पंजाब सिंह किरार का बेटा विकास किरार भी जहरीली शराब बनाकर बेचने का काम करता था। विकास के खिलाफ बागचीनी थाने में बीते रोज एफआइआर भी दर्ज हुई है। इससे पहले शराब बेचने वाले रामवीर राठौर के भाई मुकुट राठौर और दूसरे आरोपित गिर्राज के भाई की भी मौत हो चुकी है। शराब बेचने के आरोपित पप्पू पंडित और रामवीर राठौर भी शराब पीने के आदी थे। यह दोनों गिरफ्तार हैं और जहरीली शराब पीने के कारण बीमार हैं और अस्पताल में भर्ती हैं।

कैसी सतर्कता : मौतों के चौथे दिन पहुंची डाक्टरों की टीम

जहरीली शराब से प्रभावित गांवों के लोगों के स्वास्थ्य की चिंता ऐसी है कि सोमवार से हो रही मौतों के चौथे दिन यानी गुरुवार को डाक्टरों की टीम उन गांवों में पहुंची जहां जहरीली शराब से मौतों का क्रम थम नहीं रहा। सीएमएचओ डा. आरसी बांदिल ने बताया कि मानपुर, छैरा, भैसाई, बिलैयापुरा, पहावली, चैना, हडबांसी और महाराजपुर गांवों में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जौरा के ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर सहित अन्य 7 डॉक्टरों की टीम को भेजा गया। इनके साथ दो एंबुलेंस भी गांवों में भेजीं। डाक्टरों की टीम ने इन गांवो के घर-घर जाकर लोगों का हेल्थ चेकअप किया। साथ ही लोगों को समझाइश दी गई कि अगर कोई भी व्यक्ति शराब पीने से पीड़ित है, उसकी सूचना तत्काल संबंधित थाने, एसडीएम, तहसीलदार, ब्लॉक स्तर पर तैनात कर्मचारियों को दें।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस