कैलारस(नईदुनिया न्यूज)।कस्बे के बीचों बीच से गुजरी नैरोगेज ट्रेन की लाइन यहां के लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गई है। दरअसल इन पटरियों के आस पास दुकानदार व रिहायशी घर है, लेकिन जहां रेलवे की जमीन है वहां भारी कीचड़ और गंदगी का सामाज्य हो चुका है। ऐसे में इन दुकानदारों व रहवासियों के लिए यह जगह मुसीबत बन गई है। इसकी वजह है कि यहां जलनिकासी के लिए नगर परिषद भी कोई निर्माण नहीं करा पाती। ऐसे में यहां स्थायी रूप से जलभराव हो गया है। उधर नैरोगेज ट्रेन भी इस समय बंद है, जिससे रेलवे ने भी इस ट्रेक से अपना ध्यान हटा लिया है। जिसकी वजह से लोग अब यहां गंदगी की वजह से परेशान हैं।

उल्लेखनीय है कि कस्बे के बस स्टैंड क्षेत्र में रेलवे पटरियों के आस पास बहुत बड़ी जगह खाली है। यह पूरी ही जगह रेलवे की है, लेकिन कस्बे में होने की वजह से इसके आस पास दुकानें और रिहायशी मकान तक बने हुए हैं। लेकिन अब यह जगह पूरी तरह से कचरे दान में तब्दील हो चुकी है। वहीं बारिश के बाद यहां जलभराव की स्थिति निर्मित हो चुकी है। ऐसे में लोगों के लिए यह मुसीबत बन गई है। रेलवे की जगह होने की वजह से नगर परिषद यहां कोई निर्माण या अन्य कार्यवाही नहीं कर पाती। जिसकी वजह से यहां स्थायी रूप से जलभराव हो गया है। यहां के दुकानदारों व घरों में बदबू की वजह से लोगों का जीना मुहाल हो जाता है। सढ़े गले कचरे के बीच जलभराव होने से ज्यादा परेशानी बड़ी है। वहीं बस स्टैड भी यहां मौजूद है। जहां यात्री प्रतिक्षालय तक में बदबू की वजह से बैठना मुश्किल हो जाता है। नैरोगेज ट्रेन को कोरोना काल शुरू होने के बाद से ही बंद कर दिया गया था। तभी से रेलवे ने भी इस ट्रेक स अपना ध्यान हटा लिया। जिसके बाद इस ट्रेक को कचरे दान की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है। जिसकी वजह से यहां भारी दिक्कतों का सामना भी लोगों का करना पड़ रहा है। लेकिन मुसीबत यह है कि नगर परिषद भी इस जगह में कोई कार्रवाई नहीं कर सकती। इसके लिए रेलवे से विशेष अनुमति लेनी होगी। जिसके बाद ही यहां कोई जलनिकासी की व्यवस्था हो सकती है।

ट्रेन बंद होने के बाद ट्रेक की सफाई भी बंदः

नैरोगेज ट्रेन का संचालन होने से रेलवे स्टेशन व ट्रेक पर रेलवे की नजर बनी रहती थी। जहां समय समय पर रेलवे सफाई भी कराता था। नैरोगेज ट्रेन बंद होने के बाद इस ट्रेक से रेलवे ने ध्यान हटा लिया है। जिसके बाद ज्यादा हालात खराब हो गए। उधर यहां ब्रॉडगेज लाइन का भी प्रस्ताव कर दिया गया है। जिससे रेलवे यहां आगामी समय में निर्माण करेगा। लेकिन यह निर्माण जब तक शुरू होगा। तब तक यहां जलभराव व गंदगी की वजह से आस पास के रहवासियों के लिए मुसीबत होगी। यह मुख्य इलाका होने से दुकानें भी बहुत ज्यादा बनी है। जिससे इन दुकानदारों को भी परेशानी उठानी पड़ रही है।

बस स्टैंड के लिए भी जलभराव के बीच से रास्ताः

कैलारस बस स्टैंड जाने के लिए रेलवे क्रॉसिंग को पार करना पड़ता है। ऐसे में यहां बस स्टैंड के मुख्य गेट के बाहर ही ढलान नुमा जगह होने से बरसात के बाद पानी भर जाता है। जहां से इसी जलभराव के बीच से होकर लोगों को गुजरना पड़ता है। यहां पानी का भराव होने से यात्रियों को मुश्किलों के बीच ही निकलकर बस स्टैंड तक पहुंचना पड़ता है। ऐसे में कई लोग इस कीचड़ में गिरकर अपने आप को चोटिल भी कर लेते हैं। इस संबंध में जब सीएमओ संतोष सिहारे से चर्चा करने का प्रयास किया तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags