मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्टेशन रोड थाना क्षेत्र के लालौर फाटक के पास बकरियों के झुंड को रेलवे ट्रैक पार करा रहीं तीन महिलाएं व एक बच्ची फास्ट ट्रेन की चपेट में आ गई। इस हादसे में 57 बकरियां सहित एक महिला की मौके पर ही मौत हो गई, वहीं बच्ची व दो महिलाएं गंभीर रूप से घायल हो गई। जिनका जिला अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। हादसा शनिवार की सुबह 11 बजे के करीब हुआ। बताया जाता है कि झुंड में 72 बकरियां थी। लेकिन मौके से 57 बकरियां के शव भी बरामद हुए हैं।

जानकारी के मुताबिक लालौर गांव की भूरी देवी उम्र 60 साल, उर्मिला देवी 62 साल, प्रेमा देवी 55 साल व एक बच्ची जानकी उम्र 12 साल रोज की तरह ही अपनी बकरियों के झुंड को लेकर उन्हें चराने के लिए गए थे। सुबह 11 बजे के करीब लालौर फाटक के पास कट पुलिया के पास सभी महिलाएं बकरियों के झुंड को रेलवे ट्रेक पार करा थीं, इसी बीच तेज रफ्तार में एक ट्रेन आ गई। ऐसे में बकरियां ट्रेक तक पहुंच गई थी। इसी बीच महिला भूरी व उसके साथी महिलाएं इन्हें जल्दी जल्दी ट्रेक से हटाने लगी, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। तेज रफ्तार ट्रेन ने सभी बकरियों की अपनी चपेट में ले लिया। इसके साथ ही भूरी देवी भी इस ट्रेन की चपेट में आ गई। जिससे बकरियों व भूरी देवी दोनों की मौत हो गई। वहीं बच्ची जानकारी, उर्मिला व प्रेमा ठीक समय पर हटी, लेकिन इसके बावजूद वह ट्रेन से टकरा गई। जिससे तीनों ही गंभीर रूप से घायल हो गई। जिन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया। जहां सभी घायलों की हालत ठीक थी, लेकिन उनका इलाज किया जा रहा था।

बच्ची बोली अम्मा ट्रेन की आवाज आ रही, घुमाव होने से नहीं दिखी ट्रेनः

कट पुलिया के पास से जहां से महिलाएं बकरियों के झुंड को ट्रेक पार करा रहीं थी, उस जगह ट्रेक में घुमाव है। घायल बच्ची जानकी ने बताया कि उसने अपनी अम्मा उर्मिला से कहा था कि अम्मा ट्रेन के हॉर्न की आवाज आ रही है लेकिन घुमाव होने से ट्रेन दिखाई नहीं दे रही थी। ऐसे में महिलाओं ने बच्ची की बात को अनसुना कर दिया। इसके बाद ट्रेक से बकरियां निकालने लगी। लेकिन घुमाव से एक दम से ट्रेन सामने आ गई। जिसकी वजह से महिलाएं बकरियों को हटा नहीं पाई। जिससे इसकी चपेट में आ गईं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local