मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)।पिछले महीने आई चंबल व क्वारी नदियों की बाढ़ में जिन लोगों का नुकसान हुआ था, उनमें से अधिकांश को मुआवजा राशि का वितरण हो चुका हैं। इसके बाद भी कुछ लोग मुआवजा राशि के लिए आवेदन कर रहे हैं तो कई लोग दिए गए मुआवजे पर सवाल उठा रहे हैं। इसी समस्या को दूर करने के लिए बुधवार को जिलेभर की ग्राम पंचायतों में विशेष सभा बुलाई गई।

गौरतलब है कि 4-5 अगस्त को तेज बारिश के कारण चंबल व क्वारी नदियों के उफान के कारण मुरैना सहित कई जिलों में भीषण बाढ़ आ गई थी। इस बाढ़ ने मुरैना जिले के 250 से ज्यादा गांवों में जनजीवन प्रभावित कर दिया था। कई किसानों की पूरी फसल बर्बाद हो गई। घर ढह गए, मवेशी बाढ़ में बह गए थे। बाढ़ का प्रकोप कम होने के बाद जिला प्रशासन ने सर्वे कराकर बाढ़ पीड़ितों को मुआवजा देना शुरू किया। लेकिन ग्रामीण इलाकों में मुआवजा वितरण पर उंगली भी उठने लगी हैं। प्रशासन ने सर्वे में जिन-जिन का नाम आया उन्हें एक तरफ से नुकसान का मुआवजा दिया है। इसके बाद भी कोई वंचित न रह जाए या किसी अपात्र को मुआवजा न मिल जाए, इसीलिए विशेष ग्राम सभाओं में ग्रामीणों को बुलाकर उनके दावे-आपत्ति लिए जा रहे हैं। बुधवार को जिलेभर की 250 से ज्यादा ग्राम पंचायतों में यह विशेष ग्रामसभा हुई थी।

यह हुआ बाढ़ से नुकसान और मुआवजाः

- बाढ़ से 254 गांवों में 37923 किसानों की 13 हजार 800 हेक्टेयर की फसल खराब हुई है। इन किसानों को फसल हानि का 24 करोड़ 30 लाख रुपए मुआवजा मिलना था, जिसमें से अब तक 20.60 करोड़ से ज्यादा का भुगतान हो चुका है। पौने चार करोड़ रुपये मुआवजा के वितरण की तैयारी चल रही है।

- 243 गांवों में बाढ़ व अतिवर्षा से 70 मकान पूरी तरह जमींदोज हो गए। इन प्रभावितों को प्रति मकान का 95000 रुपये का मुआवजा दिया गया है। 353 मकान ऐसे थे जो आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए, इन प्रभावितों को मरम्मत कार्य के लिए 30 से 35 हजार रुपये का हर्जाना दिया गया है।

- बाढ़ के कारण दो लोगों की मौत हुई, उनके परिवार को चार-चार लाख रुपये मुआवजा मिला है। बाढ़ से 57 मवेशी मारे गए थे। पशुपालकों को भी मुआवजा राशि का शतप्रतिशत भुगतान होने का दावा प्रशासन कर रहा है।

वर्जन

- बाढ़ से जिन किसान व ग्रामीणों का नुकसान हुआ था उनके नुकसान की मुआवजा राशि वितरित कर चुके हैं। अन्य जिलों की तुलना में हमारे यहां बहुत जल्दी मुआवजा वितरण हुआ है। जो किसान वंचित रह गए हैं या किसी को मुआवजे में आपत्ति है, उनके लिए विशेष ग्राम सभाएं बुलाई गई हैं। इनमें आने वाली दावे-आपत्तियों का भी जल्द निराकरण करवाया जाएगा।

नरोत्तम भार्गव,एसडीएम, मुरैना

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local