पोरसा(नईदुनिया न्यूज)। नगर पालिका के कर्मचारियों ने सुबह सड़कों पर सफाई की और चौराहों पर कचरे के ढेर लगा दिया। इसके बाद इन ढेरों को शहर से उठाकर ट्रेंचिंग ग्राउंड तक पहुंचाया नहीं जा सका। जिसकी वजह से पूरे शहर में जगह-जगह यह कचरे के ढेर दिखाई देते रहे। इसकी वजह है कि बिजली घर के पास जिस जगह को नगर पालिका ट्रेंचिंग ग्राउंड की तरह इस्तेमाल कर रही थी, वह जगह बिजली कंपनी की है। ऐसे में बिजली कंपनी ने इस जगह कचरा डालने से इंकार कर दिया। जिससे यह कचरे के ढेर शहर से ही नहीं उठाए जा सके। फजीयत यह है कि नगर पालिका के पास खुद का कोई ट्रेंचिंग ग्राउंड नहीं है। जहां इसे उठाकर फेंक सकें। लाख प्रयासों के बावजूद अभी तक कोई घोषित ट्रेंचिंग ग्राउंड नगर पालिका को नहीं मिल सकी है।

उल्लेखनीय है कि बुधवार को शहर के किसी भी हिस्से से कचरा को उठाया नहीं जा सका। यहां सुबह सफाई कर्मचारी आए जरूर, जहां सफाई करने के बाद शहर के प्रमुख रास्ता पर रोज की तरह कचरा इकट्ठा कर रख दिया। इसके बाद नगर पालिका की ट्रॉली इस कचरे को उठाती थी, लेकिन बुधवार को यह ट्रॉली नहीं आई। न ही शहर से कचरे को उठाया जा सका। इसकी वजह से सब्जी मंडी रोड, अटेर रोड, थाने के सामने जगह जगह पर कचरे के ढेर लगे रहे। नगर पालिका कर्मचारियों के लिए मुसीबत यह थी कि अगर वह इस कचरे को उठा भी लें तो फेंकेंगे कहां। दरअसल अभी तक कर्मचारी शहर से कचरा समेटकर बिजली घर के पास खाली पड़ी जमीन पर कचरा फेंक रहे थे, लेकिन अब इस खाली जगह पर बिजली कंपनी अपना कोई भवन निर्माण करा रही है। जिसकी वजह से जमीन पर बुनियाद खोद दी गई है। इसके साथ ही बिजली कंपनी ने नगर पालिका को भी कचरा इस जमीन पर फेंकने से मना कर दिया है। जिससे बुधवार को यह मुसीबत खड़ी हो गई। सफाई तो रोज की तरह हुई, पर यह कचरे के ढेर कहीं नहीं उठाए जा सके।

कचरे की वजह से परेशान होते रहे लोगः

कस्बे के प्रमुख बाजारों और सड़कों पर जगह जगह लगे कचरे के ढेरों की वजह से लोग दिनभर परेशान नजर आए। दरअसल दुकानों के सामने ही यह कचरे के ढेर लगे थे, सड़कों पर कचरा फैल रहा था, जिसके बीच से ही लोगों को निकलना पड़ रहा था। जिसकी वजह से दुकानदार और राहगीर दोनों ही परेशान रहे। उन्हें यह समझ नहीं आ रहा था, नगर पालिका ने यह कचरा उठाया क्यों नहीं। उधर सबसे ज्यादा हालात अटेर रोड के रहवासियों का था। यहां एक मरा हुआ सूअर भी कचरे में पड़ा था, जिससे उठती बदबू की वजह से स्थानीय लोग व यहां से गुजरने वाले लोग परेशान होते रहे।

ट्रेंचिंग ग्राउंड पर आए दिन होते रहे हैं विवादः

नगर पालिका का अभी तक कोई स्थाई टंचिंग ग्राउंड तैयार नहीं हो सका है। जिसकी वजह से आए दिन कचरा फेंकने को लेकर विवाद की स्थिति बनती रहती है। दरअसल पूर्व में कचरे को बुधारा गांव के पास फेंका जाता था। जहां ग्रामीणों ने इसका विरोध कर दिया। जिसके बाद शहर से कई दिनों तक कचरा नहीं उठाया जा सका। इसके बाद नगर पालिका ने दूसरी जगह तलाश की। जिसमें बम्बा के पास इस कचरे को फेंकना शुरू किया गया। कुछ दिनों बाद यहां रहने वाले लोगों ने इस पर आपत्ति कर दी। जिससे यहां से भी कचरा फेंकना बंद हो गया। अब पिछले कुछ समय से बिजली घर के पास इस कचरे को डंप किया जा रहा था। जिस पर बिजली कंपनी ने भी अब इस जगह पर कचरा फेंकने की मना कर दी। जिससे अब फिर से नई जगह तलाशने की मुसीबत खड़ी हो गई है। पहले भी कई बार जगह के अभाव में शहर से तीन से चार दिनों तक कचरा नहीं उठाया जा सका था।

कथन

-बिजली कंपनी ने कचरा फेंकने से मना कर दिया है, यहां जमीन पर उन्होंने बुनियाद खोद दी है। अब तहसीलदार के साथ लेकर नई जगह के लिए प्रयास करते है। जगह की वजह से यह परेशानी खड़ी हुई है।

अमजद गनी, सीएमओ पोरसा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local