मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। बुधवार की देर शाम खनैता गांव के युवक का बोलेरो से आए 10 से ज्यादा लोगों द्वारा किए गए अपहरण के मामले में हैरतअंगेज घटना हो गई, जो अब दो थानों के लिए सिरदर्द बन गई है। 24 साल के युवक को पीटकर बोलेरो से ले जाने की घटना के बाद सिविल लाइन थाने में आधी रात को ही अपहरण का केस दर्ज हो गया, लेकिन सुबह पता चला कि युवक का अपहरण नहीं हुआ, बल्कि भैंस चोरी के संदेह में कुछ ग्रामीण उसे पकड़कर रिठौरा थाने ले गए। गुरुवार को यह युवक रिठौरा थाने में मिला।

गौरतलब है कि खनैता गांव निवासी 24 वर्षीय सद्दाम हुसैन पुत्र ईसब खान बुधवार की शाम मुरैना शहर में घर का कुछ सामान लेने आया था। साढ़े 7 बजे के करीब वह लौटकर घर जा रहा था, तभी महाराजपुरा रोड पर नहर के नरुआ के पास लाल रंग की बोलेरो से आए 8-10 लोगों ने सद्दाम को रोका। बोलेरो से उतरे युवकों ने डंडे व हॉकी से पहले तो सद्दाम को बुरी तरह पीटा, उसके बाद बोलेरो में डालकर उसे ले गए। अपह्त हुए सद्दाम हुसैन के पिता के साथ थाने पहुंचे। करीब तीन घंटे तक पुलिस पड़ताल करती नहीं। सद्दाम का कहीं पता नहीं चला तो सिविल लाइन थाने में सद््‌दाम के अपहरण का केस दर्ज किया गया। सुबह रिठौरा थाने से सद्दाम के बारे में सूचना उसके घर आई। तब पता चला कि रिठौरा थाने में उसे भैंस चोरी के संदेह में पकड़ा गया है। दरअसल सद्दाम को रिठौरा पुलिस की बजाय कुछ ग्रामीण आधे रास्ते से उठाकर ले गए। इस तरह किसी को पकड़कर सनसनी फैलाने से रिठौरा पुलिस भी उन किसानों से नाराज है, इधर सिविल लाइन पुलिस ने इस घटना के कारण अपहरण का झूठा केस बना लिया। सिविल लाइन टीआइ विनय यादव के अनुसार अब इस मामले में खात्मा लगाने की कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local