बानमोर(नईदुनिया न्यूज)। बानमोर कस्बे में यात्री सुविधाओं से जुड़ी अभी तक एक भी सुविधा यहां उपलब्ध नहीं कराई गई है। यहां से हर दिन हाइवे से एक सैंकड़ा के करीब बस हर दिन गुजरतीं है, लेकिन इनके खड़े होने का भी नियत स्थान नहीं है, जहां सवारियों को बसों में बैठाया जा सके। जिसकी वजह से कस्बे में हाइवे पर जगह जगह बसें सवारियां लेतीं है और छोड़ती हैं। यात्रियों को भी हर मौसम में हाइवे पर ही खड़ा रहना पड़ता है। लेकिन इसके बावजूद यहां बस स्टैंड निर्माण को लेकर कोई प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ सकी है।

उल्लेखनीय है कि बानमोर कस्बे की 40 हजार की आबादी है। हाइवे किनारे बस कस्बे में अभी तक नगर परिषद एक बस स्टैंड का भी निर्माण नहीं करा सकी है। जबकि यह ग्वालियर और मुरैना के बीच में आता है। जहां से हर दिन लगभग एक सैंकड़ा के करीब बसों का दिनभर परिचालन होता है। बसें यहां कस्बे में पहुंचने पर हाइवे पर ही आकर खड़ी होती है। जिसकी वजह से जाम की स्थिति भी बनती है। बस स्टैंड न होने की वजह से चालक बसों को हाइवे से साइड में लेकर नीचे तक नहीं उतारते। यहीं बसें आकर खड़ी हो जाती है। इसके इसके साथ ही यात्री भी हाइवे पर जगह जगह खड़े रहते है। कोई एक जगह निर्धारित न होने की वजह से यहां यात्री भी जगह जगह पर ही खड़े रहते है। यहां बस स्टैंड तो दूर की बात है यात्रियों के खड़े होने के लिए एक जगह भी निर्धारित नहीं की गई है। जिसकी वजह से कई बार यात्रियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। खासतौर पर बरसात और गर्मी में। क्यों कि खुले आसमान के नीचे ही यात्री खड़े रहते हैं। या फिर हाइवे किनारे की दुकानों के सामने टिनशेड का सहारा लेते है। कस्बे की आबादी लगातार बढ़ती ही जा रही है, लेकिन इसके बावजूद यहां बस स्टैंड जैसी मूलभूत सुविधा भी उपलब्ध नहीं कराई जा सकी है।

एक बस स्टॉप उस भी है कब्जाः

नगर परिषद ने बसों के लिए सर्विस रोड पर एक बस स्टॉप का निर्माण करा दिया, लेकिन इस बस स्टॉप पर सर्विस रोड पर लगने वाले हाथ ठेलों व दुकानदारों से कब्जा कर लिया। जिसकी वजह से यहां यात्रियों के लिए पैर रखने तक के लिए जगह नहीं है। इस संबंध में कई बार शिकायत की जा चुकी हैं। लेकिन इस जगह से अतिक्रमण साफ नहीं हो सका है। लोगों को हाइवे पर खड़े होकर बसों के आने का इंतजार करना पड़ता है। जिसकी वजह से हादसे का भी डर लगा रहता है। इसके बावजूद यहां बस स्टैंड के निर्माण की प्रक्रिया को शुरू तक नहीं किया गया है। न किसी कभी ऐसा कोई प्रस्ताव पास किया गया। जिससे उस पर अमल किया जा सके।

सरकारी जमीन न होना बनी मुसीबतः

बानमोर कस्बे में हाइवे किनारे सरकारी जमीन न होना बस स्टैंड निर्माण में बड़ी बाधक हैं यहां इस तरह की जगह तलाशने के शुरूआत में प्रयास किए गए। लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी। कस्बे के दोनों ओर निजी भूमि होने की वजह से बस स्टैंड की प्रक्रिया भी अधर में लटकी हुई है। सरकारी जमीन के लिए कस्बे से बाहर जाना होगा। जिसमें उद्योग विभाग की जमीन सटी हुई है। नगर परिषद के लिए सरकारी जमीन खोजना मुश्किल भरा साबित हो रहा है।

कथन

-यहां सड़क किनारे सरकारी जमीन नहीं उपलब्ध हो रही है। जिसकी वजह से बस स्टैंड का निर्माण नहीं हो पा रहा है। राजस्व विभाग से सरकारी जमीन चिन्हित कराएंगे। इसके बाद ही यहां बस स्टैंड तैयार हो सकेगा।

एसएस यादव, सीएमओ बानमोर।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local