मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। मुरैना शहर के बैरियर क्षेत्र में लगी मां-बेटी की जिस प्रतिमा को उपद्रवियों ने तोड़ दिया था, वह नए स्वरूप में आ गई है। खास बात यह है, कि टूटी हुई प्रतिमा को ही मरम्मत करके उसे पुराना स्वरूप लौटा दिया गया है। इस काम पर नगर निगम का खर्च भी कुछ हजार रुपयों में हुआ है।

गौरतलब है कि बैरियर के पास चंबल कॉलोनी गेट तिराहे पर बने गुलंबर में मां-बेटी की प्रतिमा लगी है, जिसमें छोटी की बेटी को मां अपने हाथों से उठाकर लाड़ करती दिखती है। चूंकि मुरैना जिला लिंगानुपात के लिए कुख्यात रहा है, इसीालिए बेटियों की सुरक्षा का संदेश देने व बेटियों का महत्व बताने के लिए ननि ने यह प्रतिमा लगाइ थी। जिसे 9-10 अगस्त की रात में किसी उपद्रवी ने तोड़ दिया। उपद्रवी ने मां-बेटी प्रतिमा में से बेटी का सिर तोड़कर अलग कर दिया था। इसके अलावा मां की प्रतिमा के चेहरे को भी कई जगह से क्षतिग्रस्त कर दिया था। एक महीने से चादर में ढंककर रखी इस प्रतिमा की मरम्मत मूर्तिकार दीपक विश्वकर्मा को दी गई, जिन्होंने पत्थर चिपकाने वाले पेस्ट से बेटी की प्रतिमा का सिर जोड़ा और मां की प्रतिमा के चेहरे के जर्जर अंगों को दोबारा बनाकर सही किया। पहले यह प्रतिमा रंगबिरंगी साड़ी व फ्राक के कारण रंग बिरंगी दिखती थी, जिसे अब एक ही स्टोन कलर में कर दिया गया है। जिससे ऐसा लग रहा है, कि प्रतिमा नई बनाई गई है। ननि आयुक्त संजीव जैन ने बताया कि मूर्तिकार ने अभी तक बिल नहीं दिया, लेकिन इस पर कुछ हजार रुपये का ही खर्च हुआ है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local