मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। मुरैना नगर निगम की माली हालत इतनी कमजोर है कि सफाई कर्मचारियों को वेतन नहीं बंट पा रहा है। दो महीने से वेतन नहीं दिए जाने से नाराज सफाई कर्मचारियों ने गुरुवार को नगर निगम कार्यालय में हंगामा कर दिया। कर्मचारियों का कहना है, कि आर्थिक तंगी के कारण उनके सारे त्योहार फीके हो रहे हैं।

गुरुवार की दोपहर 20 से ज्यादा सफाई कर्मचारी नगर निगम आयुक्त कार्यालय के सामने एकजुट हुए। डेढ़ घंटे से ज्यादा समय तक किसी अफसर ने उनकी नहीं सुनी तो सफाई कर्मचारियों ने हंगामा कर दिया। इसके बाद नगर निगम आयुक्त संजीव जैन से मिले सफाई कर्मचारियों ने अपनी व्यथा सुनाते हुए, वेतन दिए जाने की मांग की। वार्ड 13 के सफाई कर्मचारी संजय कुमार ने बताया कि उसे सितंबर महीने का वेतन नहीं मिला और अक्टूबर महीने की 21 तारीख होने के बाद भी वेतन नहीं आया। एमएस रोड के बबलू दरोगा ने बताया कि, सफाई कर्मचारियों को 6 से 8 हजार रुपये का वेतन मिल रहा है, वह भी दो-दो महीने में नहीं मिलता। इस कारण कई सफाई कर्मचारियों को दुकानों से उधार राशन तक मिलना बंद हो गया है, क्योंकि दो महीने की उधारी वह चुका नहीं पाए। वार्ड 33 के सफाई कर्मचारी चेतन का कहना है कि जब भी वेतन के लिए आते हैं तो अफसर कह देते हैं कि इस बार चुंगी क्षतिपूर्ति का पैसा नहीं आया, इस कारण वेतन समय पर नहीं बंट पाया। सफाई कर्मचारियों का कहना है कि नगर निगम के बड़े अधिकारी, बाबू व शाखाओं के प्रभारी अपना वेतन समय पर ले रहे हैं, लेकिन सफाई कर्मचारियों को परेशान किया जा रहा है। उधर जुलाई महीने में रिटायर हो चुके नारायण सिंह का कहना है कि वह वार्ड 23 के सफाई कर्मचारी थे। रिटायर हुए तीन महीने हो गए, लेकिन अब तक उसकी पेंशन, ग्रेजुटी व छुट्टी के दिनों का पैसा अब तक नहीं मिला है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local