मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिला प्रशासन ने पीठ फेरी तो रेत माफिया फिर सक्रिय हो गए। हाइवे से लेकर शहर की सड़कों पर अंधाधुंध रफ्तार में दौड़ रहे अवैध रेत से भरे वाहन फिर जानलेवा होने लगे हैं। गुरुवार की सुबह नेशनल हाइवे पर बाइक सवार दंपती को रेत से भरे ट्रैक्टर-ट्रॉली ने पहले टक्कर मारी, टक्कर के बाद सड़क पर गिरी महिला को रेत से भरा ट्रैक्टर-ट्रॉली कुचलकर भाग गया। उधर पुलिस ने हादसा करने वाले ट्रैक्टर-ट्रॉली को खाली बताते हुए, अज्ञात ड्राइवर पर लापरवाही से वाहन चलाने का केस दर्ज कर लिया है।

सिविल लाइन थाना क्षेत्र के हिंगोना कलां गांव निवासी 35 वर्षीय श्रीनिवास कुशवाह अपनी पत्नी नीलम कुशवाह 32 वर्ष के साथ बाइक से दिमनी जाने के लिए निकला था। नीलम के फूफा की तबियत कई दिन से खराब थी, बीमार फूफा को देखने के लिए नीलम, अपने पति के साथ सुबह साढ़े 11 बजे घर से रवाना हुई। 10 से 15 मिनट का सफर तय करने के बाद बाइक सवार दंपती नेशनल हाइवे पर पलाश ढाबे के पास आए तभी पीछे से अवैध रेत से भरा ट्रैक्टर-ट्रॉली तेज रफ्तार में आया। ट्रैक्टर ड्राइवर ने पीछे से बाइक को टक्कर मारी। टक्कर से बाइक सहित श्रीनिवास उचटकर दूसरे किनारे पर पड़ा, लेकिन पीछे बैठी नीलम वहीं गिर पड़ी, जिस पर पलक झपकने जितनी देर में ट्रैक्टर व ट्रॉली के पहिया चढ़े चले गए। ट्रैक्टर व ट्रॉली के पहिया नीलम के सिर पर चढ़े, जिससे उसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। इस हादसे में सिविल लाइन पुलिस ने अज्ञात ट्रैक्टर-ट्रॉली ड्राइवर पर एफआइआर दर्ज कर ली है। पुलिस का दावा है, कि ट्रैक्टर-ट्रॉली में रेत नहीं था, बल्कि खाली थी।

गुस्साए ग्रामीणों ने किया अस्पताल में हंगामाः

रेत के ट्रैक्टर-ट्रॉली से नीलम की मौत की खबर जैसे ही हिंगोना कला गांव में पहुंची तो एक सैकड़ा से ज्यादा ग्रामीण अस्पताल में आ गए। सूचना के बाद सिविल लाइन थाना पुलिस भी अस्पताल पहुंच गई। मृतका के स्वजन व ग्रामीणों ने सीसीटीवी कैमरों की मदद से आरोपित ट्रैक्टर-ड्राइवर को पकड़ने की मांग की। इस दौरान ग्रामीणों ने कहा कि पुलिस ने रेत के ट्रैक्टर-ट्रॉली को नहीं रोका तो ग्रामीण कल सड़क पर बैठ जाएंगे। ग्रामीण रामनिवास कुशवाह, बनवारी, देवेन्द्र, प्रताप आदि का कहना है कि रोज सुबह से दोपहर तक सैकड़ो ट्रैक्टर-ट्रॉली अवैध रेत लेकर हिंगोना व देवरी से होकर निकलते हैं, प्रशासन की कोई टीम इन्हें नहीं रोकती।

पांढरे के जाते ही प्रशासन सुस्त, रेत माफिया हावीः

वन विभाग की एसडीओ श्रद्धा पांढरे का मुरैना से तबादला होने के बाद से रेत माफिया लगातार बेलगाम होते जा रहे हैं। मुरैना शहर में अंबाह बायपास तिराहा, केएस मिल तिराहा, बड़ोखर क्षेत्र से लेकर बानमोर में नगर परिषद रोड पर अवैध रेत के वाहनों की मंडी रोज सुबह सज जाती है। जब एसडीओ पांढरे थीं तब यह रेत की मंडियां बंद हो गई थीं। हाइवे पर भी रेत के वाहन चोरी छिपे रात के अंधेरे में निकलते थे, जो अब बेखौफ होकर दिनभर दौड़ते हैं। जब एसडीओ पांढरे थीं, तब संभाग आयुक्त ने कार्रवाई के लिए संयुक्त टीम बनाई थी, यह टीम भी एसडीओ पांढरे के जाने के बाद से सुस्त पड़ गई है।

वर्जन

- हादसे में महिला की मौत हुई है, लेकिन इस ट्रैक्टर-ट्रॉली में रेत नहीं था। खाली ट्रैक्टर-ट्रॉली से यह हादसा हुआ है। मृतका के पति ने भी बताया है कि ट्रॉली में रेत था या नहीं उसे नहीं पता।

विनय यादव

टीआइ, सिविल लाइन

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local