मुरैना। नईदुनिया न्यूज

शक्कर से भरी मालगाड़ी लूटने वाले सात आरोपितों में से फरार चल रहे छह आरोपितों ने चार दिन के भीतर हाथ खड़े कर दिए हैं। खास बात यह है कि इन इनामी फरारी बदमाशों में से पुलिस के हाथ एक भी आरोपित नहीं लगा। चार दिन पहले दो आरोपितों ने ग्वालियर में और बुधवार को चार बदमाशों ने मुरैना कोर्ट में सरेंडर कर दिया।

गौरतलब है कि 5-6 अप्रैल की रात में दिल्ली से आई शक्कर के बोरों से भरी मालगाड़ी को हेतमपुर व सिकरौदा रेलवे स्टेशन के बीच खड़ा करके, उक्त मालगाड़ी का इंजन गोवा एक्सप्रेस में लगाकर रवाना कर दिया था। इंजन के इंतजार में खड़े माड़गाड़ी के एक डिब्बे को काटकर उसमें से शक्कर के बोरे चुराते हुए कुछ बदमाशों का आमना-सामना आरपीएफ की गश्ती टीम से हो गया था। आरपीएफ के आरक्षण द्वारा चलाई गइ गोली से 27 साल का आरोपित रवि पुत्र मेवाराम शर्मा निवासी पिपरसा मौके पर ही दबोच लिया था, लेकिन अन्य आरोपित पिपरसा गांव निवासी हकिया पुत्र महाराज सिंह बघेल, बीरा पुत्र कल्लू बघेल, गब्बर पुत्र बैजा सिंह बघेल, सुघर सिंह का पुरा निवासी देशराज गुर्जर पुत्र रामविलास गुर्जर, रामनिवास पुत्र द्वारिका गुर्जर और बिण्डवा गांव निवासी वीरेंद्र पुत्र तुस्सीराम गुर्जर फरार हो गए थे। इन सभी आरोपितों के खिलाफ हत्या के प्रयास, चोरी, आर्म्स एक्ट आदि धाराओं में केस दर्ज था। पुलिस इनमें से एक भी आरोपित तक नहीं पहुंच सकी और बुधवार को चार आरोपित रामनिवास गुर्जर, हकिया बघेल, बीरा बघेल और गब्बर बघेल ने जिला न्यायालय में सरेंडर कर दिया। बुधवार को पुलिस ने इन्हें मेडिकल कराने के बाद वापस कोर्ट में पेश किया, जहां से सभी को जेल भेज दिया है।

दो ने ग्वालियर कोर्ट में किया था सरेंडर

शक्कर से भरी मालगाड़ी को लूटने का प्रयास करने वाले फरार चल रहे छह आरोपितों में से दो आरोपित देशराज गुर्जर और वीरेंद्र गुर्जर ने चार दिन पहले ग्वालियर जीआरपी थाने में सरेंडर किया था। यह दो आरोपित ट्रेन में बैठकर मुरैना से ग्वालियर पहुंच गए, लेकिन मुरैना पुलिस को इनकी भनक नहीं लगी। फिलहाल यह दोनों आरोपित जीआरपी के सुपुर्द हैं, जिन्हें सिविल लाइन थाना पुलिस गुरुवार को मुरैना लेकर आएगी। यानी मालगाड़ी लूट के सभी आरोपित पुलिस हिरासत में आ चुके हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close