Morena News मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। एसपी आशुतोष बागरी के पास शुक्रवार को बागचीनी थाना क्षेत्र के उम्मेदगढ़ बांसी गांव के निवासी कल्लू पुत्र पप्पू कुशवाह ने ऐसी शिकायत की है, जिससे बागचीनी थाने से लेकर यातायात थाने तक में हलचल मच गई है। शिकायतकर्ता ने एसपी को तीन आडियो व एक वीडियो दिया है, जिसमें बागचीनी थाने के एएसआइ राकेश यादव दो सगे भाइयों को हवालात से छोड़ने के एवज में 25 हजार की घूस मांग रहे हैं।

दूसरे वीडियो में वह रिश्वत के 15 हजार रुपये मिलने एवं 10 हजार रुपये और देने पर ही आरोपित को हवालात से छोड़ने की बात कहते सुनाई दे रहे हैं। यह मामला छेड़छाड़ के एक आवेदन पर कार्रवाई करने से जुड़ा है। जिसके आरोप में उम्मेदगढ़ बांसी गांव के पप्पी कुशवाह व राहुल कुश वाह को एएसआइ यादव ने पकड़कर हवालात में बंद किया था, जिनको छोड़ने के एवज में 25 हजार की रिश्वत का सौदा पक्का हुआ।

मामला उजागर होने के बाद एएसआइ राकेश यादव खुद को निर्दोष बताते हुए कह रहे हैं कि यातायात थाने के आरक्षक नत्थी मावई ने उनके नाम से 25 हजार की रिश्वत ली है। हालांकि एक आडियो में वह खुद ही कह रहे हैं कि 15 हजार तो उनके पास आ गए, नत्थी ने 10 हजार रुपये अब तक नहीं दिए। यह आडियो आला अफसरों पर पहुंचने के बाद एएसआइ यादव शिकायतकर्ता को फोन पर धमका रहे हैं, यह आडियो भी शिकायत के साथ एसपी को दिया गया है।

आडियो में एएसआई की रिश्वत मांगने की बातों के मुख्य अंश

एएसआइ यादव : नत्थी से पैसे लेकर आना है, आओ फटाफट, तो बच जाओगे, थाने पर जमानत लेकर छोड़ दूंगा।

ग्रामीण : नत्थी पर कितने पैसे रह गए, 15 हजार तो हमने आपको ही दिए हैं। आपने ही तो बोला कि बाकी के नत्थी को दे देना।

एएसआइ यादव : पहले दिन तो नत्थी ने मुझे दे दिए। दोबारा उसने कहा था कि बाकी के बाद में दे दूंगा, उसने मुझे आज तक नहीं दिए।

ग्रामीण : मैंने नत्थी को 10 हजार दे दिए, वो तुम पर आए नहीं।

एएसआइ यादव : नही आए, फालतू बात करो मत। तू आजा थाने आजा, फोन पर ज्यादा बात नहीं करते, यहीं बात करेंगे।

ग्रामीण : ठीक है महाराज मैं नत्थी को लेकर आता हूं।

- यह आडियो गलत है, झूठे हैं। मैंने किसी से कोई रुपये नहीं लिए नहीं ऐसी कोई बात की है। मेरे नाम से यातायात थाने के आरक्षक नत्थी मावई ने रुपये लिए हैं। मैं जो कह रहा हूं वही सच है, बाकी सब झूठ है। मैं सात साल कोतवाली में रहा हूं, मैं इतना भ्रष्ट नहीं हूं। - राकेश यादव, एएसआइ, बागचीनी थाना

- मैं बागचीनी थाने में थोड़े हूं, मैं कैसे वहां के केस में दखल दे सकता हूं। एएसआइ राकेश यादव तो नशेड़ी है, शराब के नशे में कुछ भी कह देता है, मैंने किसी ने एक रुपया तक नहीं लिया। - नत्थी मावई, आरक्षक, यातायात थाना

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close