पोरसा(नईदुनिया न्यूज)। बिजली उपभोक्ता आकलित बिलों से परेशान है, जिसको लेकर सैंकड़ों उपभोक्ता कार्यालयों में इन बिलों को सुधरवाने के लिए चक्कर काटते रहते हैं। दरअसल एक बार मीटर खराब होने के बाद यहां बिजली कंपनी आकलित खपत का बिल भेजना शुरू कर देती है। लोग मीटर बदलवाने के लिए आवेदन करते है, लेकिन उनके मीटरों को भी बदलने में महीनों लग जाते है। परेशानी यह है कि कस्बे में ज्यादातर उपभोक्ताओं को यह आकलित खपत के बिल भी थमाए जा रहे हैं। उधर अब मीटर बदलने का काम बिजली कंपनी ने शुरू भी किया है तो यह मीटर भी पूरे उपलब्ध नहीं है। जो स्टाक में मीटर थे, उन्हें ही बदलकर काम चलाया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि पोरसा कस्बे में लगभग 15 हजार के करीब बिजली उपभोक्ता है। जिनमें से ज्यादातर के घर बिजली कंपनी आंकलित खपत के ही बिल भेजती है। जिसकी वजह से यहां उपभोक्ताओं को मनमाने भारी भरकम बिलों से परेशानी होती है। यही वजह है कि इन आकलित बिलों को भरने से लोग बचते भी नजर आते है। जिसका नुकसान भी उठाना पड़ता है। बिलों को सुधरवाने के लिए लोग बिजली कंपनी में लगातार चक्कर काटते रहते हैं। जिसके बावजूद इनके बिलों में कोई सुधार नहीं हो पाता। इसकी वजह है कि उपभोक्ताओं के घरों के मीटर बंद पड़े हुए हैं। इसी का फायदा उठाकर कंपनी मनमाने बिल भेजती रहती है। आलम यह है कि नगर में 2 हजार मीटरों की आवश्यकता है जिनको बदला जाना है, लेकिन बिजली कंपनी इन्हें बदल भी नहीं पा रही है। परिणाम में लोगों को ही आकलित बिलों को झेलना पड़ रहा है। यहां बिजली कंपनी के पास स्टॉक में 500 के करीब मीटर है, जिन्हें अब बदलने की प्रक्रिया को शुरू किया गया है। जिस पिछले कुछ दिनों में 100 मीटरों को बदला गया है, लेकिन अन्य उपभोक्ताओं के मीटर तभी बदले जा सकते है। जब बिजली कंपनी पोरसा को मीटर उपलब्ध हों। लगभग 1500 मीटरों की अभी भी जरूरत बनी हुई है, जो कब तक आएंगे यह कहा नहीं जा सकता। यह डिमांड पिछले कई महीनों से बनी हुई हैं इसके बावजूद मीटर उपलब्ध नहीं हो सके हैं।

गरीबों को भी थमा देते हैं भारी-भरकम बिलः

यहां बिलों को भेजने का कोई पैमाना नहीं है। मीटर खराब हुआ और मनमाना बिल आना शुरू हुआ। इसके बाद उपभोक्ता मीटर बदलवाने के लिए चक्कर काटे, इससे से पहले भारी-भरकम बिल को कम करवाने के लिए चक्कर काटे। यहां गरीबों को यहां भी जहां बिजली की खपत भी बेहद कम है उनको भी यह आकलित बिल थमा दिए जाते हैं। पिछले दिनों ही ऐसे ही लोग इकट्ठा होकर बिजली कंपनी कार्यालय पहुंचे। जहां विधायक को मौके पर पहुंचकर इन बिलों को ठीक करने के निर्देश देने पड़े थे।

नईबस्ती में बदले गए मीटरः

बिजली कंपनी ने जो मीटर स्टाक में रखे थे, उनके मीटर बदलने का काम जरूर शुरू कर दिया है। नईबस्ती में कई लोगों के खराब पड़े मीटर बदलने की कार्रवाई की, लेकिन यहां मीटर बहुत ज्यादा बदलने जाने हैं, स्टाक में महज 500 मीटर है, लेकिन यहां जरूरत 2000 मीटरों की है। हालांकि इसके बावजूद अभी तक 100 से ज्यादा मीटरों को कर्मचारी बदल चुके हैं।

कथन

-अभी हमारे पास लगभग 500 मीटर स्टाक में थे, उन्हें बदलने का काम शुरू कर दिया है। इनके बदलने के बाद लोगों की समस्याएं खत्म होंगी। जितने मीटर आते जा रहे है, उन्हें बदलने का काम किया जा रहा है।

भरत कतीजा, सहायक प्रबंधक बिजली कंपनी पोरसा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags