फोटो 8ए- सड़क पर खड़े पत्थर से भरे ट्रैक्टर

-टॉस्क फोर्स की बैठक में जारी निर्देश, साबित हो रहे औपचारिकता

-आयुक्त आवास के पास खड़े हो रहे पत्थर से भरे ट्रैक्टर-ट्रॉली

मुरैना। राज्य शासन द्वारा अवैध खनिज पर कार्रवाई के निर्देश के बाद मुरैना में भी टास्क फोर्स समिति की बैठक हुई। समिति की अध्यक्ष कलेक्टर प्रियंकादास ने समिति में शामिल सभी विभागों के प्रमुख अधिकारियों को अपने-अपने स्तर पर अवैध खनन और अवैध खनिज के परिवहन को रोकने के निर्देश जारी किए थे। इसके बाद भी खुले आम पत्थर और अन्य खनिज से भरे ट्रैक्टर आते जाते दिख रहे हैं। सबलगढ़ में दो मासूम लोगों की जान ऐसे ही एक खनिज से भरे ट्रैक्टर ने ली। इधर सबलगढ़ ब्लॉक के रामपुर में भी पत्थर माफिया सक्रीय है।

कलेक्टर प्रियंकादास ने टास्क फोर्स समिति की बैठक में खनिज अधिकारी, डीएफओ, पुलिस अधिकारियों सहित राजस्व विभाग के अधिकारियों को अवैध खनन संबंधी मामलों पर नजर रखने और खनन रोकने के लिए कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। इसमें ईंट भट्टों सहित, मुरम और पत्थर की खदारों को भी शामिल किया गया था। बैठक हुए हफ्ता भर बीत चुका है लेकिन किसी भी विभाग ने खनन और परिवहन रोकने के लिए कोई उल्लेखनीय कार्रवाई नहीं की है। इसके विपरीत शहर में खुले आम अवैध खनिज की बिक्री हो रही है। यह इलाका है हाईवे के नजदीक आयुक्त नगर निगम निवास जाने वाली रोड। यहां पर पत्थर से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉलियां दर्जनों की संख्या में सुबह से शाम तक लगाई जा रही है।

इसलिए नहीं लग सकती मंडीः अंचल में संचालित खदानों से जो पत्थर खोदा जाता है। उसकी रॉयल्टी रसीद दी जाती है। इसके अलावा पत्थर को जहां भेजा जाना होता है वहां तक के लिए पास भी वाहन को दिया जाता है। ऐसे में इस पत्थर को मंडी लगाकार नहीं बेचा जा सकता। शहर में इस तरह की कोई मंडी स्वीकृत भी नहीं है। ऐसे में इस अवैध मंडी के कारण आम लोगों को परेशानी पेश आती है।

योजना बनी लेकिन काम नहीं हुआः करीब डेढ़ साल पहले टास्क फोर्स की बैठक में ही इस बात का निर्णय लिया गया था कि शहर के बाहर खनिज मंडी बनाई जाएगी। जहां पर भवन निर्माण के लिए सिंध का वैध रेत, मुरम, गिट्टी और पत्थर उपलब्ध होगा। इससे अवैध खनन पर रोक लग सकती थी। लेकिन यह मंडी अब तक स्थापित नहीं हो पाई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket