मुरैना (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में कई सड़कों का निर्माण इतनी जल्दबादी में हुआ है कि सड़कें बनाने से पहले बिजली के खंभे और ट्रांसफार्मर भी नहीं हटवाए गए हैं। इस कारण कई सड़कों के बीच में बिजली के खंभे और ट्रांसफार्मर आ गए हैं। इनके कारण हादसे बढ़ने लगे हैं, लेकिन नगर निगम, बिजली कंपनी या फिर जिला प्रशासन का इस ओर ध्यान ही नहीं जा रहा। यह लापरवाही किसी दिन बड़े हादसे का कारण बन सकती है।

नगर निगम ने करोड़ों रुपये की लागत से कब्रिस्तान से लेकर राधिका पैलेस चौराहा व नैनागढ़ रोड को जोड़ते हुए अंबाह बायपास तक सड़क बनाई है। इस टू-लेन सड़क पर कब्रिस्तान से लेकर राधिका पैलेस होटल तक तो बिजली खंबों को सड़क से किनारे हटवा दिया है, लेकिन दूसरे चरण में पुराने बस स्टैण्ड से लेकर अंबाह बायपास तक बनी करीब डेढ़ किलोमीटर लंबी इस सड़क के खंभे नहीं हटवाए गए। ऐसे में सड़क के बीचोंबीच कई खंभे व ट्रांसफार्मर आ गए हैं। इस सड़क पर स्ट्रीट लाइट भी नहीं लगीं, इस कारण शाम होते ही यहां अंधेरा पसर आता है। बीआर गार्डन से थोड़ा आगे चलकर सड़क के बीच में आए एक खंभे में शुक्रवार-शनिवार की रात में एक ई-रिक्शा टकरा गया, जिसका चलाक घायल हो गया। स्थानीय लोगों के अनुसार इससे पहले दो बाइक सवार भी खंभे से टकराकर घायल हुए थे।

इसलिए नहीं हटे खंभे और ट्रांसफार्मरः

दरअसल, बिजली कंपनी किसी भी सड़क या अन्य निर्माण के बीच आने वाले खंभों, ट्रांसफार्मरों को हटा तो देती है, लेकिन इनको दूसरी जगह शिफ्ट करने पर जो खर्च आएगा वह संबंधित विभाग को ही उठाना पड़ता है। बिजली कंपनी के महाप्रबंधक पीके शर्मा ने बताया कि एक खंभे को शिफ्ट करने का चार्ज पांच हजार से लेकर 20 हजार रुपये तक या इससे भी ज्यादा हो सकता है। यह पूरा खर्च उस विभाग या व्यक्ति को उठाना पड़ता है, जो पोल शिफ्टिंग करवाना चाहता है। दूसरी ओर नगर निगम माली हालत का हवाला देते हुए फिलहाल बिजली कंपनी को पोल शिफ्टिंग का भुगतान करने के मूड में नहीं है।

वर्जन

- जिन सड़कों के बीच में बिजली के खंभे आ गए हैं, उन्हें हटवाया जाएगा। हां खंभे व ट्रांसफार्मर हटवाने के लिए बिजली कंपनी को उसका खर्च देना होता है।फिलहाल ननि के पास बजट की कमी है। बजट आते ही खंभों को शिफ्ट करवाया जाएगा।

संजीव कुमार जैन, आयुक्त, ननि मुरैना

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close