मुरैना(नईदुनिया प्रतिनिधि)। अगर आपके आसपास, गली, मोहल्ले या पड़ोस में कोई गुण्डा-बदमाश रह रहा है और इसे जेल भेजकर क्षेत्र में शांति चाहते हैं, तो अपने मोबाइल से ऐसे बदमाश का वीडियो बनाइए और पुलिस अफसर के नंबर पर भेज दें। इसके बाद बाकी काम पुलिस पर छोड़िए। ऐसा इसलिए, क्योंकि आदतन अपराधी, इनामी और फरारी बदमाशों की धरपकड़ के लिए मुरैना पुलिस ने 'सजग मुरैना-सुरक्षित मुरैना' अभियान शुरू किया है। इस अभियान के तहत गुण्डे-बदमाशों को जनता के सहयोग से पकड़ा जाएगा। खास बात यह है कि बदमाशों के साथ उनको संरक्षण देने वाले लोगों पर भी पुलिस, इस अभियान के दौरान कार्रवाई करने का दावा कर रही है।

मुरैना एसपी आशुतोष बागरी ने गुुरुवार की शाम थाना प्रभारियों से चर्चा की ओर इस अभियान को शुरू करने के निर्देश दिए। इस अभियान के तहत हर बीट में उसके प्रभारी (आरक्षक, प्रधान आरक्षक या एएसआइ) के मोबाइल नंबर होंगे। क्षेत्र की हर दुकान से लेकर, तिराहे, चौराहे आदि सार्वजनिक स्थलों पर बीट प्रभारी के वाट्सअप नंबर होंगे। सजग मुरैना, सुरक्षित मुरैना अभियान की शुरुआत शुक्रवार से मुरैना शहर से लेकर जिलेभर के थानों ने कर दी। इसके तहत थाना क्षेत्रों में पुलिस थाने के वाहन मुनादी (अनाउंसमेंट) कर रही हैं, कि आपके आसपास, मोहल्ले में कोई आदतन अपराधी, इनामी या फरारी बदमाश रह रहा हो, कोई व्यक्ति ऐसे अपराधी को संरक्षण दे रहा हो, तो ऐसे अपराधी या उसके संरक्षक की वीडियो बनाकर बीट प्रभारी के वाट्सअप नंबर पर भेजें। पुलिस के अनुसार जानकारी देने वाला का नाम पूरी तरह गुप्त रखा जाएगा। वीडियो की पुष्टि होते ही अपराधी और उसके संरक्षक को पकड़कर जेल भेजा जाएगा।

बीट प्रभारियों से बोले एसपी-हर किसी के पास हों आपके नंबरः

एसपी आशुतोष बागरी ने कोतवाली थाने का औचक निरीक्षण किया और पुलिसकर्मियों की क्लास लेते हुए 'सजग मुरैना-सुरक्षित मुरैना' के बारे में बताते हुए कहा, कि बीट प्रभारी वही हो जिसे उसके क्षेत्र का हर व्यक्ति जाने। बीट प्रभारी खुद अपने नाम, नंबर के पर्चे चिपकाएंगे। एसपी ने कहा कि मुझे ऐसी कोई दुकान नहीं दिखनी चाहिए, जहां बीट प्रभारी का मोबाइल नंबर नहीं लिखा हो। उन्होंने कहा कि जहां-तहां फायरिंग करके दहशत फैलाने वाले आरोपितों में पुलिस का डर दिखना चाहिए। ऐसे लोगों को तत्काल पकड़े और सख्त से सख्त कार्रवाई करें।

वर्जन

- मुरैना जिले में शादी समारोहों में हर्ष फायरिंग बड़ी समस्या थी, जिसके कारण कई दुखद हादसे हो चुके हैं। लोगों ने हमें वीडियो बनाकर दिए और ऐसे हर्ष फायर करने वालों पर तत्काल कार्रवाई हुई। इसी तरह हमने जनसहयोग से अपराधियों को पकड़ने उनके संरक्षकों पर कार्रवाई करने के लिए 'सजग मुरैना-सुरक्षित मुरैना' अभियान शुरू किया है। इंटरनेट मीडिया का सदुपयोग कर जनसहयोग से समाज से बुराई व अपराध खत्म किए जा सकते हैं। इसी धारणा से हमने यह प्रयाश शुरू किया है।

आशीष बागरी, एसपी, मुरैना

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local