नरसिंहपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बुधवार को मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के अंतर्गत किसानों को हितलाभ वितरण के कार्यक्रम का आयोजन पीजी कालेज के आडिटोरियम में किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि विधायक जालम सिंह पटेल ने किसानों को चैक वितरित किए। किसानों से जैविक एवं प्राकृतिक खेती करने का आह्वान किया।

योजना के तहत जिले के एक लाख 42 हजार 672 किसानों के खातों में 30 करोड़ 19 लाख रूपये की राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित की गई।यह राशि राज्य स्तरीय कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा रीवा जिले में आयोजित कार्यक्रम में किसानों के खातों में सिंगल क्लिक से अंतरित की।योजना में प्रत्येक किसान के खाते में वर्ष 2022-23 की मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना की प्रथम किस्त की 2 हजार रूपये की राशि अंतरित की गई। विधायक श्री पटेल और अन्य अतिथियों ने कन्या पूजन और दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।विधायक श्री पटेल ने प्रतीक स्वरूप जिले के किसानों को पहली किश्त के रूप में दो-दो हजार रूपये के चैक वितरित किए। उन्होंने कृषक मूलचंद कहार बहोरीपारकलां, रामलाल मेहरा भैंसा एवं जंडेल सिंह कौरव भैंसा को चैक दिए।

अधिकार अभिलेख का वितरणःविधायक ने यहां आबादी भूमि के अधिकार अभिलेख का वितरण प्रतीक स्वरूप बहोरीपारकलां के रामप्रसाद साहू, अशोक कुमार मेहरा व नाजिर हुसैन को किया। इस दौरान 11 हितग्राहियों को अधिकार अभिलेख का वितरण किया गया।साथ ही 18 छात्र.-छात्राओं के लिए 15-15 किलो के मूंग के बैग वितरित किए। इस अवसर पर कलेक्टर रोहित सिंह, एसडीएम राजेश शाह, महंत प्रीतमपुरी गोस्वामी, प्रमेश शंकर शर्मा अन्य जनप्रतिनिधिए उप संचालक कृषि राजेश त्रिपाठी, महाप्रबंधक जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक आरसी पटले व अन्य अधिकारी और कृषक मौजूद रहे। इस मौके पर सभी ने राज्यस्तरीय कार्यक्रम के प्रसारण को देखा-सुना।

जैविक-प्राकृतिक खेती अपनाने जोरःविधायक श्री पटेल ने केंद्र व प्रदेश सरकार की किसान हितैषी योजनाओं को विस्तार से बताया।कहा कि देश की अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर है। कोरोना काल में अन्य देशों की अर्थव्यवस्था गड़बड़ा गई थी। जबकि देश में रिकार्ड कृषि उत्पादन हुआ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश के 80 करोड़ जरूरतमंद लोगों को 21 माह तक मुफ्त राशन प्रदान किया गया था।श्री पटेल ने किसानों से जैविक व प्राकृतिक खेती अपनाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि किसान अपने खेत में कृषि अपशिष्ट में आग नहीं लगाएं। रासायनिक खाद एवं कीटनाशक का युक्तियुक्त तरीके से उपयोग करें। उन्होंने रासायनिक खाद एवं कीटनाशकों के अत्यधिक उपयोग के दुष्परिणाम बताए। पर्यावरण एवं जल संरक्षण करने पर जोर दिया। श्री पटेल ने लोगों से आग्रह किया कि वे श्रमदान कर तालाबों एवं जल स्रोतों का जीर्णोंद्धार करें। अमृत सरोवर बनाने में सहयोग करें। कार्यक्रम का संचालन सहायक मिट्टी परीक्षण अधिकारी डा.आरएन पटेल और आभार प्रदर्शन उप संचालक कृषि श्री त्रिपाठी ने किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close