नरसिंहपुर। जिला चिकित्सालय में पदस्थ 8 में से 7 चिकित्सकों के खिलाफ कोतवाली थाने में आपराधिक प्रकरण दर्ज किया गया है। कोरोना वायरस को लेकर किए गए लॉकडाउन के बाद सभी आठ डॉक्टर गायब हो गए थे, बाद में इनमें से एक महिला डॉक्टर वापस काम पर लौट आई थीं। नरसिंहपुर जिला चिकित्सालय में पदस्थ 7 डॉक्टरों सीएस शिव, वीके गर्ग, पीसी आनंद, हिमांशु पठारिया, आर के सागरिया, अखिलेश गुप्ता, पुष्पेन्द्र सिहं, और 3 सिस्टर ट्यूटर मोरिन गुस्ताव, अर्चना जयबंत, बिन्दू काबले के विरूद्ध बिना सक्षम स्वीकृति कर्तव्य से अनुपस्थित रहने के कारण कलेक्टर दीपक सक्सेना के निर्देश पर केस दर्ज किया गया है। कोतवाली थाना नरसिंहपुर में मध्य प्रदेश अत्यावश्यक सेवा संधारण तथा विच्छिन्नता निवारण अधिनियम 1979 के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज किया गया है।

नरसिंहपुर में डॉक्टरों ने किया शर्मसार

संकट की इस घड़ी में जहां पूरे प्रदेश में डॉक्टर कोरोना वायरस मरीजों सहित अन्य मरीजों के इलाज में लगे हैं। ऐसे में नरसिंहपुर में सात डॉक्टरों ने लोगों की जान बचाने के लिए काम पर न आकर शर्मसार करने वाली स्थिति बना दी है। गौरतलब है कि इंदौर के टाटपट्टी बाखल में मेडिकल जांच करने पहुंची टीम पर हमला हुआ था, इसके बाद भी डॉक्टर उन लोगों की जांच करने वहां वापस पहुंचे थे जिस इलाके में उन पर हमला हुआ था। कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए इंदौर की दोनों महिला डॉक्टरों और मेडिकल टीम की देशभर में सराहना हुई। भोपाल में तो कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने में लगे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मचारी सहित पुलिस के जवान भी इससे संक्रमित हो गए, लेकिन इससे डरकर डॉक्टर और पुलिस कभी पीछे नहीं हटे।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना