गोटेगांव (नईदुनिया न्यूज)। गांव से रोजाना स्कूल आने वाली दो किशोरियां जब शुक्रवार की शाम तक वापिस घर नहीं पहुंची तो स्वजन परेशान हो गए और काफी खोजबीन की लेकिन कुछ पता नहीं चला तो थाने पहुंच गए। जिसके बाद पुलिस ने सक्रियता दिखाई और दोनों किशोरियों को नरसिंहपुर बस स्टैंड पर रात्रि करीब साढ़े 7 बजे तलाश कर स्वजनों के सुर्पुद किया। किशोरियां का कहना रहा कि वह स्कूल बंद होने के बाद दूल्हादेव मंदिर में दर्शन करने आ गईं थीं। जहां से लौटने के लिए बस नहीं मिली तो बस स्टैंड आकर बस की प्रतीक्षा कर रहीं थीं।

गोटेगांव नगरीय क्षेत्र के एक स्कूल में कक्षा नवमीं और दसवीं में पढ़ने वाली 14 व 15 वर्षीय दो छात्राएं शुक्रवार को अलग-अलग गांव से स्कूल आईं थीं। जहां से वह शाम तक घर नहीं पहुंची थीं। जिसकी सूचना स्वजनों ने थाने आकर दी थी। गोटेगांव थाना के एसआई विजय द्विवेदी ने बताया कि छात्राओं के घर न पहुंचने की जानकारी लगते ही वरिष्ठ अधिकारियों को बताया गया। पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन में कार्रवाई करते हुए बस स्टेंड, रेलवे स्टेशन और आसपास के स्थानों पर पड़ताल की गई। दोनों छात्राओं में एक स्कूल ड्रेस में थी। सूचना मिलने के करीब 3 घंटे बाद ही नरसिंहपुर से सूचना मिल गई कि दोनों छात्राएं बस स्टेंड पर खड़ी हैं जिसके बाद स्वजनों के साथ जाकर पुलिस ने छात्राओं को उनके सुपुर्द किया तो स्वजनों की चिंता दूर हो गई। छात्राओं ने पुलिस की सामान्य पूछताछ में यही बताया है कि वह मंदिर में दर्शन करने के लिए आ गईं थीं लेकिन लौटने के लिए काफी देर तक बस न मिलने पर वह नरसिंहपुर बस स्टेंड आ गईं। पुलिस ने बताया कि उनके पास मोबाइल भी नहीं था जिससे वह स्वजनों को कोई सूचना दे सकें।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस