ोटेगांव। कोरोना संक्रमणकाल में झौंतेश्वर मवई के बंद पड़े 100 बिस्तर के अस्पताल को शुरू कराने क्षेत्र के कई सामाजिक संगठन प्रशासन को ज्ञापन देंगे। जिससे निर्माण के बाद से ही बंद पड़े इस अस्पताल का लाभ संक्रमण के इस मुश्किल दौर में मरीजों को मिल सके। साथ ही प्रशासन को भी जगह की कमी के कारण परेशानी न हो। क्षेत्रवासियों का कहना है कि प्रशासन जल्द से जल्द 100 बिस्तर की क्षमता वाले अस्पताल की हालत सुधारकर यहां संक्रमितों के इलाज के लिए आवश्यक सुविधाओं का इंतजाम कराए। इसके लिए हर स्तर पर आवाज उठाई जाएगी। यदि इस अस्पताल में संक्रमितों का इलाज शुरू होता है तो शहरी क्षेत्र भी सुरक्षित रहेगा और शासन को जो अलग से कोविड केयर सेंटर, क्वारंटीन सेंटर बनाने पड़े है उनकी जरुरत भी नहीं पड़ेगी।

दो मंजिला भवन से मिलेगा लाभः नागरिकों का कहना है कि दो मंजिला अस्पताल भवन में एक साथ सैंकड़ों मरीजों को रखा जा सकता है। भवन में सभी जरुरी व्यवस्थाएं भी हैं। कर्मचारियों को भी जगह पर्याप्त रहने से कार्य करने में आसानी होगी। साथ ही अस्पताल का परिसर भी बड़ा है जिससे वाहनों को आने-जाने में भी सुविधा मिलेगी। प्रशासन को चाहिए कि भवन का जल्द से जल्द निरीक्षण कर यहां मरीजों को रखने और उनका इलाज कराने की कार्रवाई शुरू की जाए। जिन कर्मचारियों को यहां सेवाओं में लगाया जाए उनकी सुविधा का भी ध्यान रखा जाए ताकि कर्मचारी बिना किसी परेशानी के बेहतर कार्य कर सकें।

लगातार बढ़ रहे क्षेत्र में मरीजः तहसील क्षेत्र में लगातार संक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है। जिससे लोगो में अब संक्रमण को लेकर डर भी बढ़ने लगा है। बावजूद इसके कई लापरवाह अब भी बेवजह घरों से निकल रहे हैं, कई स्थानों पर व्यापारी स्वयं जोखिम उठाकर चोरी छिपे दुकानों से सामग्री बेंच रहे है। दुकानों पर भीड़ लगा रहे है। जिससे प्रशासन को भी ऐसे लोगों की निगरानी करना मुश्किल हो रही है। नगर के जागरूक नागरिकों का कहना है कि प्रशासन को लापरवाह लोगों के खिलाफ कार्रवाई करना चाहिए और व्यवस्थित तरीके से जरुरी सामग्री की आपूर्ति सुनिश्चित कराना चाहिए। साथ ही क्षेत्र में पड़ोसी जिलों से जो लोग चुपचाप आ रहे है उनकी निगरानी भी की जाए। स्वास्थ्य केंद्रों पर भी व्यवस्थाएं बेहतर की जाएं।

सुबह-शाम चहल-पहल, दोपहर में सन्नाटाः नगरीय क्षेत्र में सड़कों पर सुबह-शाम लोगों की आवाजाही रहने से चहल पहल देखी जा रही है। वहीं दोपहर में सड़कों पर सन्नाटा फैला रहता है। कोरोना कर्फ्यू के साथ ही धूप के तेवर तीखे होने से लोग घरों से दोपहर के वक्त नहीं निकल रहे है। दवा सहित अन्य जरुरी सामग्री के लिए लोगों का घरों से निकलना अधिक हो रहा है।

वैक्सीन लगवाने कम पहुंच रहे लोगः स्वास्थ्य केंद्र में कोविड वैक्सीन लगाने का कार्य चल रहा है। हर दिन करीब 400 वैक्सीन लगाने का लक्ष्य है। लेकिन कोरोना कर्फ्यू के साथ ही संक्रमण के डर से लोग घरों से कम निकल रहे है। जिसका असर वैक्सीनेशन पर भी हो रहा है। हालांकि प्रशासन द्वारा टीकाकरण कार्य के लिए आने वाले लोगों को सहूलियत दी जा रही है और प्राथमिकता से लोगों से टीका लगवाने कहा जा रहा है। लेकिन कई लोग टीका लगवाने नहीं पहुंच रहे है। गुरुवार को यहां दोपहर बाद करीब 100 लोगों को ही टीका लग सका।

15 में से 10 वार्डो में मरीजः बताया जाता है कि नगर के 15 में से करीब 10 वार्डो में एक से लेकर 4 तक कोरोना मरीज है। साथ ही ग्रामीण क्षेत्र में भी संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। जानकारों का कहना है कि तहसील क्षेत्र में करीब 67 लोग कोरोना संक्रमित है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags