नरसिंहपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। सूदखोरों की प्रताड़ना, अवैध वसूली के चलते जान देने वाले डॉ. सिद्धार्थ तिगनाथ ने सेकंड हैंड कारों का भी व्यवसाय किया था लेकिन ये भी बर्बाद कर दिया गया। उनके इस कारोबार में दस से ज्यादा वाहन भी थे लेकिन सूदखोरों ने एक-एक कर सभी वाहनों को अपने नाम पर करा लिए। कारोबार के मुनाफे को भी चट कर लिया।

ये आरोप रिश्ते के बहनोई और हैशटैग जस्टिस फॉर डॉ. सिद्धार्थ तिगनाथ की मुहिम चला रहे रीवा निवासी डॉ. अजय शुक्ला ने लगाए हैं। उन्होंने बताया कि डॉ. सिद्धार्थ ने महिंद्रा फर्स्ट च्वाइस नाम से एक एजेंसी खोली थी। इसमें दस से ज्यादा सेकंड हैंड गाड़ियां वे लेकर आए थे लेकिन इस कारोबार को भी सूदखोरों ने चलने नहीं दिया। कर्जे के 20 से 120 फीसद तक के अवैध ब्याज और पैनाल्टी लगाने के चलते सूदखोरों ने इस कार एजेंसी के मुनाफे तक को हड़पना शुरू कर दिया था। आखिरकार एक वक्त ऐसा भी आया जब इन सूदखोरों ने एजेंसी की सभी कारों को भी अपने नाम करा लिया। डॉ. शुक्ला का कहना है कि अधिकांश गाड़ियां किसी जगमोहन जाट के घर में खड़ी हैं। फरार चल रहे मोस्ट वांटेड आशीष नेमा ने हैचबेक कार व जगमोहन ने एसयूवी कार की सिद्धार्थ से ठगी की है। स्वजन ने जेल में बंद सुनील जाट, भग्गी यादव, अजय उर्फ पप्पू जाट, फरार चल रहे धर्मेंद्र जाट, राहुल जैन के अलावा करीब 20 लोगों के नाम भी बताए हैं जिन्होंने कारों से लेकर जमीन हड़पने तक में सिद्धार्थ को शारीरिक-मानसिक रूप से प्रताड़ित किया। डॉ. अजय शुक्ला के अनुसार कार के कारोबार में सिद्धार्थ ने करीब 50 लाख रुपये लगाए थे, लेकिन सूदखोरों के कारण सब कुछ उनसे लुट गया।

नकली कागज पर बेची जमीनः डॉ. अजय शुक्ला ने बताया कि डॉ. सिद्धार्थ ने अपनी डायरी में नकली कागज पर उनकी जमीन बेचने का भी जिक्र किया है। इस डायरी में रानू दुबे और आत्महत्या मामले में आरोपी बनाए गए राहुल जैन पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। स्वजन के अनुसार इन दोनों ने नकली कागज पर जरजोला स्थित सिद्धार्थ की जमीन बेच दी थी।

पुलिस कह रही-ढूंढे नहीं मिल रहे फरार आरोपित

डॉ. सिद्धार्थ तिगनाथ आत्महत्या के मामले में कोतवाली थाना पुलिस ने 7 सूदखोरों को आरोपित बनाया है, जबकि चार आरोपित फरार बताए जा रहे हैं। जो फरार चल रहे हैं उनमें आशीष नेमा, धर्मेंद्र जाट, राहुल जैन व एक अन्य का नाम प्रमुख है। पुलिस का दावा है कि इन आरोपितों को पकड़ने के लिए विशेष टीमें उनके घरों में दबिश दे रहीं हैं लेकिन वे ढूंढे नहीं मिल रहे हैं। वहीं हकीकत ये है कि शहर में फरार आरोपितों में से कुछ तो बेफिक्री से घरों-मोहल्लों में घूमते देखे जा रहे हैं। शहर के समीपी गांव खैरी निवासी आरोपित धर्मेंद्र जाट के बारे में बताया जा रहा है कि वह दिन में अपने खेत पर रहता है, जबकि शाम को वह गांव वापस आकर घर में समय काट रहा है। बहुत से ग्रामीणों ने इसकी पुष्टि भी है। वहीं पुलिस जिसे मोस्ट वांटेड कह रही है उस आशीष नेमा के बारे में भी पुलिस अब तक पता नहीं लगा पाई है, जबकि स्थानीय लोग उसके शहर में ही होने की बात कह रहे हैं।

गृहमंत्री से की मुलाकात, सभी आरोपितों पर कार्रवाई की मांग

डॉ. सिद्धार्थ तिगनाथ ने बीती 22 अप्रेल को ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली थी। मृत्यु पूर्व वे एक डायरी लिखकर छोड़ गए हैं, जिसमें उन्होंने आत्मघाती कदम उठाने की वजह सूदखोरों की प्रताड़ना और लूटपाट को बताया है। डायरी में करीब 20 सूदखोरों के नाम लिखे हैं, लेकिन पुलिस ने अभी तक सिर्फ 7 आरोपितों पर ही मनमाना ब्याज वसूलने और आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया है। डायरी में दर्ज हर सूदखोर पर कार्रवाई की मांग को लेकर बीते दिवस सिद्धार्थ के स्वजन भोपाल में प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से भी मिले हैं। मुलाकात के दौरान स्वजन ने सूदखोरों द्वारा की गई पांच करोड़ रुपये से अधिक की लूटपाट के अलावा प्रताड़ना के बारे में बताया है। इसके पूर्व गाडरवारा की पूर्व विधायक साधना स्थापक ने भी गृहमंत्री से फोन पर चर्चा करते हुए डॉ. सिद्धार्थ तिगनाथ के मामले में सूदखोरों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग की थी।

.........

डॉ. सिद्धार्थ के स्वजन से हमने उनकी एजेंसी में दर्ज गाड़ियों के नंबर मांगे हैं, जैसे ही मिल जाएंगे, हमारी जांच सुलभ हो जाएगी। जिन जमीनों का गलत तरीके से सौदा हुआ है, उसकी भी पड़ताल की जा रही है। वहीं फरार आरोपितों की धरपकड़ के लिए हमारी टीम सिविल ड्रेस में उनके घरों पर नजर रख रही है। आरोपित यदि शहर में ही हैं तो उनकी जल्द गिरफ्तारी कर ली जाएगी।

जीतेंद्र गढ़ेवाल, विवेचना अधिकारी, थाना कोतवाली, नरसिंहपुर।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags