गोटेगांव (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहरी क्षेत्र में मोहल्ले-कालोनियां, बाजार आदि क्षेत्र गंदगी व कचरे से जूझ रहे हैं। वहीं इस तरह की समस्याओं से सरकारी परिसर भी अछूते नहीं हैं। इसका नजारा रविवार सुबह स्थानीय अस्पताल व शहर के विभिन्न स्कूलों में देखने को मिला। शनिवार रात दो-तीन घंटे की बारिश ने यहां के परिसरों में बरसाती का जमावड़ा कर दिया। इस जलभराव के कारण मरीजों व परीक्षा देने पहुंचे बच्चों को परेशानियां उठानी पड़ी।

यूं तो क्षेत्र में इस बार कम बारिश हुई है। इसके कारण जलभराव के गंभीर हालातों से शहरवासियों को नहीं जूझना पड़ा है। बावजूद इसके जरा सी बारिश भी कई जगह परेशानी भरे हालात पैदा करने के लिए काफी हैं। इन जगहों पर जलनिकासी की पर्याप्त व्यवस्था न होने के कारण पानी का जमावड़ा कीचड़, गंदगी और बदबू से सराबोर हो जाता है। शनिवार रात हुई बारिश के चलते स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का परिसर में ही भर गया। रविवार सुबह जब यहां टीकाकरण की टीम व शहरवासी पहुंचे तो उन्हें इस जमावड़े के कारण बदबू आदि का सामना करना पड़ा। कीचड़ के कारण सभी को समस्या हुई। बताया जाता है कि स्वास्थ्य केंद्र में पानी की निकासी के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। न ही इसके लिए कभी प्रयास ही किए गए। जरा सी बारिश यहां पर कीचड़, पानी का भराव कर देती है। शहरवासियों का आक्रोश इस बात को लेकर भी है कि यहां के प्रभारी मेडिकल अधिकारी नरसिंहपुर अपडाउन तो करते हैं लेकिन अस्पताल की व्यवस्था को दुरुस्त करने के बजाय उन्हें करकबेल में अपनी निजी क्लिनिक चलाने में अधिक रुचि है। इससे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की व्यवस्था पटरी पर नहीं आ पा रही है।

इसी तरह का हाल इंदिरा उच्चतर माध्यमिक शाला, गांधी प्राथमिक कन्या, बालक शाला व उत्कृष्ट विद्यालय के परिसर में भी देखने को मिला। रविवार को इंदिरा कन्या शाला व गांधी शाला को जोड़ने वाला मार्ग कीचड़ से सना रहा। सड़क पर जगह-जगह पानी का भराव राष्ट्रीय मीन्स कम मेरिट की परीक्षा देने जाने वाले बच्चों के लिए परेशानी का कारण बनी रही। अमूमन सभी बच्चे कीचड़ से लथपथ होकर परीक्षा देने उत्कृष्ट विद्यालय पहुंचे। इसी तरह इन शालाओं के परिसर में भी पानी का भराव समस्या की वजह रही। उत्कृष्ट विद्यालय परिसर में तो समूचा प्रार्थना परिसर ही बरसाती पानी से ढंका रहा। परिसर में इस जलभराव के कारण बच्चों को कक्षाओं में प्रवेश करने में असुविधा का सामना करना पड़ा। उनके कपड़े तक गंदे पानी और कीचड़ के कारण खराब हुए। हर साल बारिश के मौसम में पानी का जमावड़ा शिक्षा-दीक्षा लेने आने वाले विद्यार्थियों समेत शिक्षक-शिक्षिकाओं के लिए परेशानी की वजह बनता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local