नरसिंहपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। रविवार को जिले के ग्राम बरहटा से विसर्जन के लिए बरमान जाने वाली देवी प्रतिमा का दर्शन करने सड़कों पर हजारों श्रद्घालुओं की भीड़ रही। पहले प्रतिमा के नरसिंहपुर और करेली शहर के मध्य से निकालने को लेकर प्रशासन की मनाही रही। लेकिन नरसिंहपुर बायपास पर जब प्रतिमा का दर्शन और अगवानी के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी और प्रतिमा को अंदर से जाने के लिए आवाज उठी तो अंततः प्रशासन को तेवर नरम करने पड़े। नरसिंहपुर में हजारों की संख्या में श्रद्घालुओं ने प्रतिमा के दर्शन किए। यही स्थिति करेली शहर में रही जहां से प्रतिमा को मुख्य मार्ग से होते हुए बरमान ले जाया गया। देर शाम रेत घाट में प्रतिमा का विधि विधान से पूजन कर विसर्जन किया गया।

जिले में प्रशासन द्वारा देवी प्रतिमाओं का विसर्जन कराने के लिए जगह-जगह अस्थाई कुंड की व्यवस्था की गई थी। लेकिन बरहटा में विराजित देवी की प्रतिमा को विसर्जन के लिए जब बरमान घाट ले जाने की जानकारी सामने आई तो लोगों में प्रतिमा का दर्शन करने की उत्सुकता-आस्था बढ़ गई। वहीं शनिवार की रात से रविवार की पूर्वान्ह 11 साढ़े 11 बजे तक प्रशासन की भी तैयारी रही कि प्रतिमा का प्रवेश नरसिंहपुर शहर के अंदर से नहीं होने दिया जाएगा। लेकिन नरसिंहपुर बायपास एनएच 44 पर सुबह से ही बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ प्रतिमा का दर्शन करने के लिए जमा होने लगी। साथ ही प्रतिमा को शहर के मध्य से निकालने के लिए भी श्रद्घालुओं ने प्रशासन पर दबाब बनाना भी शुरू कर दिया। हाइवे पर जमा भीड़ को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल, प्रशासनिक अधिकारियों की टीम सक्रिय रही, लोगों की बढ़ती मांग के बाद अंततः जनभावनाओं के आगे प्रशासन को नतमस्तक होना पड़ा।

एक झलक पाने लगाए रहे टकटकीः शहरी क्षेत्र नरसिंहपुर में बायपास से रेलवे स्टेशन, मुशरान पार्क, बाहरी रोड होते हुए प्रतिमा को निकाला गया। इस दौरान देवी प्रतिमा की एक झलक पाने लोग सुबह से टकटकी लगाए इंतजार करते रहे। एक तरफ सड़कों के दोनों तरफ भीड़ रही तो वहीं लोगों ने अपने-पड़ोसियों के छतों पर जाकर प्रतिमा के दर्शन किए और ऊपर से ही फूल बरसाए। जगह-जगह प्रतिमा का पूजन किया गया, भंडारे कर प्रसाद वितरण कराया गया। यहां भीड़ का आलम यह रहा कि शहरी क्षेत्र में करीब दो-ढाई किमी का रास्ता पार करने में ढाई से तीन घंटे समय लगा। इस दौरान स्टेशनगंज, कोतवाली थाना के बल सहित पुलिस लाइन से आए बल सहित वरिष्ठ अधिकारियों की निगरानी चलती रही। ट्राली में सवार प्रतिमा के साथ पूर्व विस अध्यक्ष व गोटेगांव विधायक एनपी प्रजापति भी सवार रहे और प्रसाद वितरण करते रहे।

बायपास से करेली में प्रवेशः नरसिंहपुर शहर से विसर्जन के लिए ट्रैक्टर-ट्राली में बरमान जाने निकली प्रतिमा का दर्शन करने के लिए करेली बायपास पर भी लोगों की भीड़ रही। दोपहर तक यहां भी प्रतिमा के शहर में प्रवेश को लेकर असमंजस की स्थिति रही लेकिन बाद में प्रतिमा ने बायपास से कमानिया गेट होते हुए शहर में प्रवेश किया तो यहां भी दर्शनार्थियों की भीड़ लगी रही। करीब एक-डेढ़ घंटे के दौरान करेली नगर की सड़कों पर हर तरफ भीड़ ही बनी रही। यहां से जब प्रतिमा बरमान के लिए रवाना हुई तो प्रशासन ने राहत की सांस ली।

भीड़ से हाइवे पर आवागमन प्रभावितः प्रतिमा विसर्जन के दौरान नरसिंहपुर बायपास सहित अन्य स्थानों पर लोगों की भीड़ एवं वाहनों की अधिक संख्या के कारण आवागमन प्रभावित रहा। प्रशासन द्वारा भीड़ के दौरान हाइवे से निकलने वाले वाहनों को सुरक्षित तरीके से निकालने की व्यवस्था की गई। वहीं कई बड़े वाहनों को भीड़ छटने का इंतजार करने के लिए अपने वाहनों को साइड से रोकना पड़ा।

बरहटा से सुबह साढ़े 9 बजे निकली प्रतिमाः ग्राम बरहटा से सुबह साढ़े 9 बजे प्रतिमा को बरमान ले जाने के लिए निकाला गया। जिसमें एक ट्रैक्टर-ट्राली में प्रतिमा को लेकर आदर्श दुर्गा मंडल के सदस्यों सहित अन्य सहयोगी रहे। वहीं एक ट्रैक्टर-ट्राली में ग्राम के अन्य लोग सवार रहे जबकि एक पिकअप में साउंड सिस्टम को रखा गया। गांव से करीब एक दर्जन से अधिक ग्रामीण अपनी-अपनी बाइक से साथियों सहित रवाना हुए।

इंटरनेट मीडिया से चर्चित हुई थी प्रतिमाः छिंदवाड़ा जिले के ग्राम सिंगौड़ी निवासी पवन प्रजापति द्वारा बनाई गई यह देवी प्रतिमा बरहटा में स्थापित होने के बाद इंटरनेट मीडिया के जरिए चर्चित हुई। जिससे प्रतिमा को देखने के लिए आदिवासी बरहटा गांव में 10 दिनों तक लोगों की भीड़ रही। जिससे प्रशासन को भी यहां सुरक्षा प्रबंध ज्यादा करना पड़े। देवी प्रतिमा की आकर्षक छबि व इंटरनेट मीडिया पर बढ़ी लोकप्रियता के कारण ही रविवार को प्रतिमा का अंतिम दर्शन करने के लिए लोगों में होड़ रही।

बाक्स

जिले में रखी 832 प्रतिमाओं में से 796 का विसर्जन

शारदीय नवरात्र पर जिले भर में करीब 832 देवी प्रतिमाओं की स्थापना की गई थी। जिसमें दशमी से शुरू हुए विसर्जन के क्रम में रविवार की रात 8 बजे तक जिले भर में 796 प्रतिमाओं से ज्यादा का विसर्जन हो चुका था। वहीं शेष 36 प्रतिमाएं भी विसर्जन स्थल के लिए रवाना रहीं। पुलिस के अनुसार देवी प्रतिमाओं का सभी अस्थाई कुंडो में विसर्जन शांतिपूर्ण ढंग से चल रहा है। प्रशासन द्वारा सुरक्षा के लिए पर्याप्त इंतजाम किए गए है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local