नरसिंहपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। ब्रह्मलीन शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के इच्छापत्र का वाचन आज शुक्रवार को परमहंसी गंगा आश्रम में होगा। इस मौके पर यहां विविध पूजन, श्रद्धाजंलि सभा, भंडारा होगा, जिसमें शामिल होने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित देश के कई प्रांतों से मंत्रियों, पूर्व मंत्रियों, अतिविशिष्ट लोगों का आगमन होगा। यहां 50 हजार से अधिक लोगो को भंडारे में भोजन कराने तीन पांडाल लगे हैं। सुरक्षा व्यवस्था के लिए भी आज कड़े प्रबंध रहेंगे।

ब्रह्मचारी अचलानंद ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आज सुबह 11 बजे आएंगे। वहीं केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते सुबह साढ़े नौ बजे आएंगे। जो यहां पूर्वान्ह 11.40 बजे तक रहेंगे। उसके बाद मुख्यमंत्री व कुलस्ते एक साथ रवाना होंगे। इसके अलावा अब तक तक जिन अतिविशिष्ट लोगों के आगमन की स्वीकृति मिली हैं। उनमें गृहमंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा,भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, मुख्यमंत्री छग भूपेश बघेल, कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वनमंत्री अकबर खान, छग विस अध्यक्ष महंत चरणदास, पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ, अखिलेश यादव, डा. रमन सिंह, दिग्विजय सिंह, शंकर सिंह बाघेला समेत बृजमोहन अग्रवाल, पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन बंसल, सुरेश पचौरी का नाम शामिल है।पुलिस अधीक्षक विपुल श्रीवास्तव ने बताया कि परमहंसी में करीब 500 जवानों का बल तैनात रहेंगे। सभी थानों से बल भेजा जा रहा है।

पट्टाभिषेक की तिथि होगी घोषितः

द्वीपाठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती 11 सितंबर की दोपहर 3.21 बजे ब्रह्मलीन हुए थे, जिनकी पार्थिव देह को त्रिपुर मंदिर के नजदीक समाधिस्थ किया गया है। आज यहां समाराधना कार्यक्रम, भंडारा होगा। साथ ही काशी सहित देश के अन्य स्थानों से आए संतो की मौजूदगी में शंकराचार्य के इच्छापत्र का वाचन होगा। इच्छापत्र अनुसार घोषित ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद, द्वारका शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी सदानंद सरस्वती के पट्टाभिषेक महोत्सव की तिथि-मुहूर्त की घोषणा की जाएगी।

प्रहलाद पटेल करेंगे शास्त्र समर्पणः केंद्रीय जल शक्ति खाद्य प्रसंस्करण उद्योग राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल आज सुबह 10 बजे परमहंसी पहुंचेंगे। वे यहां शंकराचार्यजी की समाधि पर श्रद्धांजलि देंगे और शास्त्र व वस्त्र समर्पण करेंगे। इसके बाद श्री पटेल दोपहर 1.30 बजेझौंतेश्वर से गोटेगांव से शहपुरा तेंदूखेड़ा होते हुए दमोह के लिए रवाना होंगे।

चारों वेदो के पाठ का पारायणः गुरुवार को परमहंसी में नारायण तर्पण, नारायण बलि पूजन किया गया। काशी से आए चारों वेदो का पाठ करने आए 25 विद्धानों द्वारा किए पाठ का पारायण किया गया। समष्टि भंडारा में 108 संन्यासियों, 13 वेदपाठी ब्राह्मणो को भोजन कराया गया।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close