नरसिंहपुर।

श्रावण मास का आज पहला सोमवार है। घर-घर श्रद्घा भक्ति की धूम रहेगीं। श्रावण मास में मंदिरों, देवालयों में सजावट हो गई है। झूले में झूले लग गए है जिसमें लड्डू गोपाल बाल कृष्ण झूलने लगे है। शिवालयों, देवालयों में भी आज अभिषेक पूजन अर्चन और व्रत अनुष्ठान होंगे।

आज श्रावण मास सोमवार से चातुर्मास पर्व की श्रृंखला भी शुरू हो गई हैं । आज पहले सोमवार को व्रत अनुष्ठान, पूजन अर्चन, रूद्राभिषेक , मानस पाठ और अन्य तरह के विधिविधान शुरू होंगे घर -घर में श्रावण सोमवार को लेकर उत्साह है। घरों-घरों में महिलाएं , बुजुर्ग , युवक-युवतियां भी परम्परा के अनुसार श्रावण सोमवार पर कोई व्रत रख रहा है तो कोई मंदिर अपने कार्यो की शुरूआत मंदिर जाने से करेगा। तो कोई शिवालय जाकर भगवान शिव को दुग्धाभिषेक करेगा तो कोई बेल पत्र अर्पित करेगा। विभिन्न धार्मिक अनुष्ठ ान भी श्रावण मास में शुरू होगे। जैसे

किसानी वार्ड गणेश मंदिर रोड़ पर स्थित श्री अर्द्वनारेश्वर मंदिर में विविध कार्यक्रम हो रहे हैं। मंदिर के व्यवस्थापक चन्द्रभान चौहान ने बताया कि विशेष रूप से प्रत्येक सोमवार को रूद्री निर्माण दोपहर 12 से 2 बजे तक, रूद्राभिषेक शाम 4 से 6 तक, भजन संध्या एंव आरती शाम 8.30 बजे होगी। नरसिह प्रभात फेरी व अन्य संगठनों एवं स्थानीय लोगों द्वारा प्रति सोमवार को संगीतमय ओम नमः शिवाय का जाप किया जाएगा।

वर्षों से रख रहे हैं व्रत

वर्षो से हम व्रत रख रहे है। परिवार की वरिष्ठ सदस्य मां से यह संस्कार मिले है। श्रावण मास पर हमारे यहां मानस पाठ भी होता है । सभी श्रद्घा भक्ति के साथ श्रावण सोमवार का व्रत रखते है । पूजा पाठ का सिलसिला बना रहता है। अध्यात्म और धर्म ही हमारी संस्कृति है ।

-सुशीला पटैल डोभी

शिव की भक्ति का माह श्रावण

श्रावण माह विशेष फलदायी इसलिए है कि वह भगवान शिव की उपासना का माह है। घर परिवार में श्रावण मास पर भक्ति भाव की धूम रहती है। सुबह से ही परिवार के सभी सदस्य मंदिर पहुचंते है । भगवान शिव का जलाभिषेक , बिल्वपत्र अर्पण व विधि विधान से पूजा होती है। शिव ही सत्य है, शक्ति है।

- पूनम शर्मा ढिगसरा

शिव से कल्याण है

शिव से जग का कल्याण है , शिव की उपासना का अलग महत्व है । श्रावण मास में घर परिवार में हर सोमवार को पूजन अर्चन होता है। व्रत रखे जाते है। मंदिर , देवालयों में देव दर्शन होता है। श्रावण सोमवार का व्रत , अनुष्ठान घर परिवार के सदस्यों के साथ होता है । इससे परिवार में घनिष्ठता बढ़ती है।

- रजनी श्रीवास्तव हिरनपुर

आस्था और विश्वास का है माह

श्रावण मास आस्था और विश्वास का है । भक्ति से शक्ति प्राप्त होती है यह हमारे बुजुर्ग और वेद पुराण कहते है। शक्ति से शांति , संपन्नता प्राप्त होती है । इसका मूल आधार भगवान शिव है । शिव की उपासना प्रकृति की उपासना है। श्रावण सोमवार में व्रत और मानस पाठ होता है। शिव की प्रसन्नता से ही विश्व का कल्याण है।

--रश्मि शर्मा नरसिंहपुर