प्रकाश चौबे, नरसिंहपुर। कमर की हड्डी में आई खराबी का इलाज कराने कलेक्टर की चौपाल से लेकर जनसुनवाई और नेताओं को दर्जनों आवदेन दे चुके ग्रामीण को इलाज में राहत के लिए चार वर्ष में कोई मदद नहीं मिल पाई है। जिससे ग्रामीण की जिंदगी के दिन कराहते हुए चारपाई पर कट रहे है।

पति के इलाज और दो बच्चों का पेट पालने मजदूरी करने वाली पत्नी भी किडनी में सूजन आने के रोग से जूझ रही है। लेकिन पीड़ित परिवार की मदद के लिए न तो शासन की संवेदनाएं जाग रही है और न ही क्षेत्र में कोई दरियादिल उनकी मदद के लिए आगे आ रहा है।

पत्‍नी पर आ गई परिवार की जिम्‍मेदारी

इलाज में गरीबी बाधा नहीं बनेगी मुख्यमंत्री के इस दावे और मंशा पर जिले के अधिकारी पानी फेर रहे है। आमगांवबड़ा के खिरका मोहल्ला निवासी प्रकाश पिता सरमन मेहरा कमर की हड्डी का गुरिया सरकने से 4 वर्ष से गरीबी और बीमारी से कराहते हुए चारपाई पर जिंदगी और मौत से जूझ रहे है। पति की बीमारी का इलाज और फिर 8 व 11 वर्ष के दो बच्चों का पालन पोषण करने की जिम्मेदारी ने पत्नी को भी किडनी में सूजन की बीमारी दे दी है।

बीमार प्रकाश ने बताया कि इलाज के लिए शासन से मदद मांगने दर्जनों बार आवदेन दिए जा चुके है, 2 वर्ष पहले गांव में लगी कलेक्टर की चौपाल में भी गांव के कुछ लोग उसे चारपाई सहित ले गए थे जहां दो घंटे पड़ा रहा, साहब लोगों ने उसकी हालत देखी और मदद देने के आश्वास दिए लेकिन अब तक कोई मदद नहीं मिल पाई।

घर के मुखिया की बीमारी से आई आर्थिक तंगी ने बच्चों के चेहरे से भी मासूमियत और हंसी छीनकर उन्हें गंभीर बना दिया है। इलाज के खर्च में घर का वह जरूरी सामान-गहने भी बिक चुके है जिनसे दर्द से चंद दिनों की राहत के लिए कुछ दवाईंयों का इंतजाम हो सकता था।

नहीं आ रहा कोई दरियादिल

गांव और क्षेत्र में स्वयंभू समाजसेवियों की कमी नहीं हैं और समाज सेवा का ढिंढोरा भी खूब पिट रहा है लेकिन 4 वर्ष से बीमार ग्रामीण की मदद के लिए ऐंसा कोई दरियादिल आगे नहीं आ सका है जो गंभीर बीमारी से जूझ रहे प्रकाश के जीवन में राहत की नई रोशनी ला सके।

आवेदन देें होगी मदद

पीड़ित ग्रामीण को आवदेन की प्रक्रिया पूरी करना अनिवार्य है, यदि उसकी ओर से आवदेन दिया जाता है तो हम उसकी पूरी मदद करेगें। हमारे पास उसका कोई आवेदन होता तो हमारी जानकारी में होता। फिर भी पता करवाते है, पीड़ित की जो भी होगी मदद की जाएगी।

डॉ. आरएन शुक्ला, बीएमओ

होगी मदद

पीड़ित ग्रामीण बीमारी से संबधित एक आवेदन और जमा कर दें, हम उसकी मदद करेेगें।

नरेश पाल, कलेक्टर