.....

जबलपुर। नईदुनिया रिपोर्टर

संगीत संकल्प द्वारा कला वीथिका में आयोजित गुरु दादा देशपांडे व शिष्य रामदयाल धनोप्या स्मृति समारोह मुख्य अतिथि डॉ.सुरेश हस्तक ने शहर की शास्त्रीय संगीत सेवा पर व अध्यक्ष डॉ.उषा हस्तक ने गुरु शिष्य परंपरा पर सारगर्भित उद्बोधन दिया। स्वरांजलि क्रम इलाहाबाद से आमंत्रित दरभंगा घराने की ध्रुपद गायिका डॉ.नमिता यादव ने अपनी प्रस्तुति दी। इन्होंने चौताल में ही रागशंकरा में शंकर महादानी हर हर डमरुधानी प्रस्तुत किया। पखावज पर उत्कर्ष मालवीय(इलाहाबाद) के साथ लयकारी की बेजोड़ प्रस्तुति ने श्रोताओं का दिल जीत लिया।

द्वितीय क्रम में दिल्ली से आमंत्रित सरोद वादक सुष्मित शील ने राग बागेश्री की सुंदर अवतारणा करते हुए तीन ताल में विलंबित और मध्यलय गत प्रस्तुत की। समापन राग खमाज में भटियाली लोक धुन का वादन कर सबको मंत्रमुग्ध किया। स्थानीय तबला वादक लोकेश मालवीय की संगत ने शहर का मान बढ़ाया। कार्यक्रम की शुरूआत आरोह संगीत विद्यालय के नन्हें कलाकारों ने संकल्प गीत से किया। संचालन संजय वर्मा व प्रद्युम्न कायंदे ने किया। कार्यक्रम के आयोजन में साधना उपाध्याय, कुलजीत सिंह डॉ.सुप्रिया बोस, शरद नामदेव, संध्या पाठक का सहयोग रहा।

Posted By: