नीमच। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ने शनिवार को ग्रुप केंद्र में आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया। इस अवसर पर पुलिस उपमहानिरीक्षक आरएस रावत मुख्य अतिथि थे। उन्होंने अपने संबोधन में बताया कि 21 मई 1991 को तमिलनाडु राज्य के पैरंबदूूर में चल रही एक सभा में आतंकवादियों के आत्मघाती हमले में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का निधन हुआ था। इसी कारण आतंकवादी एवं विघटनकारी शक्तियों का दमन करने के लिए प्रत्येक वर्ष 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

विश्व के सबसे बड़े बल के सदस्य होने के नाते हमारा उत्तरदायित्व और भी बढ़ा है

उन्होंने कहा कि हम देश में निरंतर रूप से देश की विघटनकारी शक्तियों एवं आतंकवाद का मुकाबला कर रहे हैं। विश्व के सबसे बड़े बल के सदस्य होने के नाते हमारा उत्तरदायित्व और भी बढ़ जाता है कि हम देश के संविधान के खिलाफ होने वाली आतंकवादी गतिविधियों का डटकर मुकाबला करें और जहां कहीं भी हमारे योगदान की आवश्यकता हो, हम बढ़-चढ़कर अपना योगदान दें तथा देश की एकता एवं अखंडता को बनाए रखें।

विघटनकारी शक्तियों से लड़ने की शपथ दिलवाई

इस अवसर पर उन्होंने सभी अधिकारियों एवं जवानों को आतंकवाद विरोधी शपथ दिलवाई। इस शपथ में देश की अहिंसा एवं सहनशीलता की परंपरा में दृढ़ विश्वास रखते हुए आतंकवाद और हिंसा का डटकर विरोध करने तथा मानवजाति के सभी वर्गों के बीच शांति सामाजिक सद्भाव तथा सूझबूझ कायम करने और मानव जीवन मूल्यों को खतरा पहुंचाने वाले विघटनकारी शक्तियों से लड़ने की शपथ दिलवाई। इस आयोजन पर मुख्य अतिथि आरएस रावत के साथ-साथ ग्रुप केंद्र के अन्य राजपत्रित अधिकारीगण, अधीनस्थ अधिकारी तथा जवान उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close