नीमच (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोविड टीकाकरण अभियान में जिले के नागरिक उत्साहपूर्वक हिस्सा ले रहे हॅै और जिम्मेदारी से अपनी बारी आने पर टीका लगवा रहे हॅै। सोमवार को कुल 54 वैक्सीन सेंटर पर टीकाकरण हुआ जिसमें 18 प्लस के 21 सेंटर पर तीन हजार 560 लोगों को और 45 प्लस के लिए 33 सेंटर पर तीन हजार 56 डोज लगाने का लक्ष्‌य रखा गया था। बड़ी संख्या में लोगों ने लाइन में लगकर शारीरिक दूरी के साथ टीके लगवाए। जिले के दो सेंटर हायर सेकंडरी स्कूल क्रमांक-दो व कन्या शाला केंट में स्लाट बुकिंग के बाद टीके लगाए गए। वहीं अन्य सभी केंद्रों पर लाभार्थियों ने सीधे जाकर टोकन पर्ची लेकर अपना नंबर आने पर टीकाकरण करवाया। शहर के महिला बस्ती गृह, शहर की स्वर्णकार समाज धर्मशाला, कन्या शाला मनासा, उत्कृष्ट स्कूल जावद, जिला जेल सहित कुल 54 सेंटर पर वृहदस्तर पर टीकाकरण किया गया। विदित हो कि जिन्हें कोविशरल्ड का पहला डोज लग चुका है वे 84 से 112 दिन में अपना दूसरा टीका लगवा रहे हॅै और जिन्हें कोवेक्सिन का पहला डोज लगा है वे दूसरा डोज 28 से 42 दिन में लगवाएंगे। सीएमएचओ डा. महेश मालवीय ने बताया कि वैक्सीन लगने के बाद भी कोविड अनुकूल व्यवहार करना होगा। जैसे मास्क पहनें, हाथो को धोते रहें और उचित दूरी बनाकर रहें।

मलेरिया रोकथाम व जन जागरूकता के लिए मलेरिया रथ को दिखाई हरी झंडी

नीमच (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत जिलास्तर पर मलेरिया की रोकथाम और जन जागरूकता के उद्देश्य से मलेरिया रथ को मुख्य चिकत्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. महेश मालवीय ने जिला चिकित्सालय परिसर से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। जिला मलेरिया अधिकारी डा. एसएस बघेल ने बताया कि माह जून को मलेरिया माह के रूप में मनाया जा रहा है। इसके तहत मलेरिया रोग नियंत्रण एवं अन्य वाहक जनित रोग नियंत्रण के लिए जन सामान्य में जागरूकता फैलाने, मलेरिया रोग से बचाव के उपाय व सावधानिया आदि की जानकरी का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। मलेरिया रथ शहर के वार्डो, जीरन, चीताखेड़ा, पालसोड़ा एवं सभी ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण करेगा। मलेरिया रथ में हेल्थ वर्कर मलेरिया की जांच और उपचार भी करेंगे। कोई भी व्यक्ति मलेरिया की जांच व उपचार निःशुल्क करवा सकेंगे। डा. बघेल ने बताया कि मलेरिया से बचाव के लिए घरों के आसपास पानी जमा ना होने दें, वाटर कूलर का पानी सा दिन में बदल दें और उसे सुखाए, पानी के बर्तन को ढककर रखें व घर के आसपास के गड्ढों को भर दें। ग्रामों में हेंडपंप के पास पानी इकट्ठा न होने दें, छत के ऊपर रखी टंकियों को ढककर रखें व अनावश्यक टायर आदि में पानी एकत्रित न होने दें। जिससे मच्छर न पनप सकें। यदि किस को सर्दी व कंपन के साथ बुखार, बुखार उतरने के बाद थकावट व कमजोरी होने आदि लक्षण दिखे तो नजदीकी स्वाथ्य कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता द्वारा या स्वास्थ्य केंद्र पर खून की जांच करवाएं। मलेरिया की जांच व उपचार सभी शासकीय स्वास्थ्य केंद्रों पर निशुल्क की जाती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags