एसडीएम ने किया मंदिर और परिसर का निरीक्षण

- भक्तों की सुरक्षा और व्यवस्था के प्रति जिला प्रशासन गंभीर

अठाना। नईदुनिया न्यूज

सुखानंदधाम तीर्थ पर सुरक्षा प्रबंध को लेकर जिला प्रशासन बेहद गंभीर है। साथ ही व्यवस्था में निरंतर सुधार की कोशिश भी की जा रही है। इसी क्रम में जावद एसडीएम रविवार को सुखानंदधाम तीर्थ पहुंचे। उन्होंने झरने के समीप मेटी बिछाने के निर्देश दिए। कुंड और सीढ़ियों के पास सुरक्षा के इंतजाम करने को भी कहा।

जिला मुख्यालय से करीब 28 किमी दूर सुखानंदधाम तीर्थ है। अरावली पर्वत श्रृंखला के इस स्थान को मुनि सुखदेव की तप स्थली माना जाता है। यहां बारिश के दिनों में अधिक संख्या में भक्त पहुंचते हैं। गत दिनों मंदिर परिसर के कु ंड में दो बच्चों को डूबने से बचाया गया था। इस घटना को जिला व पुलिस प्रशासन बेहद संजिदा है। इसी क्रम में जावद एसडीएम दीपकसिंह चौहान रविवार को सुखानंदधाम तीर्थ पहुंचे। उन्होंने मंदिर और परिसर का निरीक्षण कि या। इसके बाद एसडीएम ने मंदिर के समीप करीब 71 फीट की ऊंचाई से गिर रहे झरने के समीप मेटी बिछाने के निर्देश दिए। कुंड के नजदीक और सीढ़ियों के नजदीक सुरक्षा के इंतजाम करने को कहा। भक्तों की सुविधा को देखते हुए सीढ़ियों का उपयोग एक ओर से आने और दूसरी ओर जाने के लिए करने कहा। मंदिर परिसर में पर्याप्त पुलिस बल तैनात करने को भी कहा। एसडीएम के निरीक्षण के दौरान तहसीलदार ब्रह्मस्वरुप श्रीवास्तव, नायब तहसीलदार अरुण चंद्रवंशी, प्रबंधक बंशीलाल नागदा, पटवारी कमल खेमवानी, ग्राम पंचायत तुंबा के सचिव प्रेमचंद माली, पुजारी ओमप्रकाश पाराशर, पवन पाराशर और सचिन पाराशर सहित अन्य मौजूद रहे।

मंदिर प्रबंध समिति की बैठक आज

एसडीएम ने संके त दिए कि सुखानंदधाम तीर्थ मंदिर प्रबंध समिति की बैठक मंगलवार को आयोजित की जाएगी। इसमें मंदिर के विकास और व्यवस्थाओं में सुधार को लेकर निर्णय लिए जाएंगे। साथ ही मंदिर परिसर की व्यवस्थाओं के संबंध में सदस्यों की राय भी ली जाएगी। इनमें मंदिर परिसर में दानपात्र लगाने और विशेष पूजा व जलाभिषेक कराने का शुल्क तय करने सहित अन्य विषयों को प्रमुखता से रखा जाएगा।

फोटो-

18एनएमएच-26, मंदिर परिसर में व्यवस्थाओं को देखते और सुधार के निर्देश देते हुए एसडीएम। -नईदुनिया

----------------

सिद्धाचल महातीर्थ की भाव यात्रा में उमड़े श्रद्धालु

नीमच। तीन दिवसीय जिनेंद्र भक्ति महोत्सव का शंखनाद शनिवार सुबह 8 बजे श्री सिद्धाचल महातीर्थ की संगीतमय भावयात्रा से हुआ। साध्वी मुक्तिप्रिया श्रीजी, मृदुप्रिया श्रीजी व हर्षप्रिया श्रीजी आदि ठाणा-7 के सान्निाध्य और श्री जैन श्वेतांबर भीड़भंजन पार्श्वनाथ मंदिर ट्रस्ट श्रीसंघ नीमच के तत्वाधान में सामूहिक शत्रुंजय तप व साध्वी जनप्रिया श्रीजी के 500 आयंबिल तप की पूर्णाहुति हुई। इसके उपलक्ष्य में तीन दिवसीय जिनेंद्र भक्ति महोत्सव का शंखनाद शनिवार सुबह 8 बजे श्री सिद्धाचल महातीर्थ की संगीतमय भावयात्रा से हुआ। इसके लाभार्थी शिखरचंद पगारिया के सिद्धितप और शत्रुंजय तप के निर्मित आशा हितेश पगारिया परिवार थे, जिनका श्रीसंघ द्वारा बहुमान कि या गया। साध्वी हर्षप्रिया श्रीजी ने कहा कि मंत्रों में नवकार वृक्षों में कल्पवृक्ष, गुरु में गौतम सर्वश्रेष्ठ हैं। वैसे ही तीर्थों में शत्रुंजय श्रेष्ठ है। इस अवसर पर बड़ी संख्या में समाजजन मौजूद थे।

Posted By: Nai Dunia News Network