जिला पंचायत सीईओ ने कि या आकस्मिक निरीक्षण

नीमच (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छात्रावास के बच्चों को गुणवत्तापूर्ण भोजन प्रदान कि या जाए। छात्रावास में पेयजल सहित साफ-सफाई पर भी विशेष ध्यान दें। यह निर्देश जिला पंचायत सीईओ भव्या मित्तल ने दिए। जिपं सीईओ मित्तल ने शुक्रवार को जावद क्षेत्र के विमुक्त जाति कन्या छात्रावास, आदिवासी बालक छात्रावास व विमुक्त जाति बालक छात्रावास का निरीक्षण कि या। इस दौरान जिपं सीईओ ने छात्रावासों की साफ-सफाई व्यवस्था को परखा। कि चन व गार्डन का निरीक्षण कर छात्राओं की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भी आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने छात्रावास में पर्याप्त स्वच्छता नहीं मिलने पर छात्रावास अधीक्षिका के समक्ष नाराजगी भी व्यक्त की। आदिवासी बालक छात्रावास के पास अवैध अतिक्रमण हटाने के लिए जिपं सीईओ ने जावद एसडीएम को दूरभाष पर चर्चा कर निर्देशित कि या। इस दौरान अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे।

विधायक परिहार ने स्वीकृत कि ए 15 लाख 30 हजार

नीमच। विधायक दिलीपसिंह परिहार ने विकास कार्यों के लिए 15 लाख 30 हजार रुपए स्वीकृत कि ए हैं। इसमें से 5 लाख रुपए श्मशान विकास समिति को स्वीकृत कि ए गए हैं। पूर्व में भी श्मशान विकास समिति को विधायक ने लाखों रुपए प्रदान कि ए थे। विधायक ने लायंस क्लब नीमच को भी विकास कार्यों के लिए 5 लाख रुपए की स्वीकृति प्रदान की है। वहीं शहर के चौपड़ा चौराहा के समीप सीआरपीएफ ऑफिसर्स मैस के बाहर व शहाबुद्दीन बाबा रोड पर आम जनता की सुविधा को ध्यान में रखते हुए 5 लाख 30 हजार रुपए यात्री प्रतीक्षालय के लिए स्वीकृत कि ए गए हैं।

अमानक उर्वरक का क्रय-विक्रय प्रतिबंधित

नीमच। कृषि विभाग ने एक अमानक उर्वरक के क्रय-विक्रय को प्रतिबंधित कि या है। कृषि विभाग के उप संचालक एसएस चौहान ने बताया कि पूर्व में मनासा क्षेत्र के ग्राम कंजार्डा की वैभव इंटरप्राइजेस से श्रीराम फर्टिलाइजर एंड के मिकल लिमिटेड द्वारा उत्पादित जल विलेय एनपीके 0ः52ः34 के लॉट नंबर सीएन 6001 के नमूने लिए थे। यह नमूने गुणवत्ता परीक्षण में अमानक पाए गए हैं। इस पर उक्त कंपनी के उक्त लॉट नंबर के उर्वरकों का जिले में क्रय-विक्रय, परिवहन व भंडारण प्रतिबंधित कि या गया है।

--------------

सहकारी संस्थाओं के सदस्य जमा अंशपूंजी प्राप्त करें

नीमच। सहकारी संस्थाओं के सदस्य जमा अंशपूंजी पुनः प्राप्त कर सकते हैं। सहकारिता निरीक्षक आरपी कु मावत ने बताया कि मप्र सहकारिता अधिनियम 1960 के तहत पंजीकृत संस्थाएं पंजीयन तिथि से ही अकार्यशील होने से सदस्यों द्वारा जमा की गई अंशपूंजी संबंधित जिला सहकारी बैंक शाखाओं में जमा कराई गई है। बैंक शाखाओं से जमा अंशपूंजी को रिकॉर्ड के अनुसार वापस की जाना है। राशि प्राप्ति के लिए सहायक आयुक्त सहकारिता जिला नीमच के कार्यालय में कार्यालयीन समय में संपर्क कि या जा सकता है। यदि एक सप्ताह में कोई सदस्य अंशपूंजी राशि लेने के लिए उपस्थित नहीं होता है तो राशि शासन के पूल फंड खाते में जमा की जाकर संस्था काा पंजीयन समाप्त कि या जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket